12वीं के बाद टॉप 10 डिप्लोमा कोर्सेज

इस पोस्ट के माध्यम से आज हम 12वीं के बाद टॉप 10 डिप्लोमा कोर्सेज के बारे में बताएंगे। आज के दौर में छात्र जिस समय 12वीं कक्षा में होते हैं उसी समय वह यह निश्चय कर लेते हैं कि 12वीं क्लास पास करने के बाद वह किसी ऐसे कोर्स में दाखिले लेंगे जिसको करने के बाद उन्हें अच्छी सैलरी पैकेज वाली जॉब मिल जाए। इसीलिए वह अपनी पसंदीदा फील्ड में जाने के लिए अपने लिए डिप्लोमा कोर्स का चुनाव करते हैं। अगर आप भी एक ऐसे विद्यार्थी हैं जो 12वीं में पढ़ रहे हैं या 12वीं कक्षा में पास हो गए हैं और किसी ऐसे कोर्स के बारे में जानकारी हासिल करना चाहते हैं जिसको करने के बाद रोजगार के उचित अवसर उपलब्ध हो सकें तो हमारे आज के इस पोस्ट को सारा जरूर पढ़ें।

12वीं के बाद टॉप 10 डिप्लोमा कोर्सेज
12वीं के बाद टॉप 10 डिप्लोमा कोर्सेज

1. डिप्लोमा इन ट्रैवल एंड टूरिज्म (Diploma in travel and tourism)

डिप्लोमा इन ट्रैवल एंड टूरिज्म एक ऐसा कोर्स है जिसमें 12वीं के बाद वह विद्यार्थी अपना भविष्य बना सकते हैं जिनको घूमने फिरने का बहुत ज्यादा शौक होने के साथ-साथ उन्हें नई नई जगहों को जानने में रुचि होती है। तो इसलिए यह 3 साल का डिप्लोमा बेहद बेस्ट कोर्स है जिसमें सफल कैरियर बनाया जा सकता है।

ट्रैवल एंड टूरिज्म कोर्स के लिए योग्यता

  • कैंडिडेट ने किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं कक्षा पास की हो।
  • 12वीं क्लास में छात्र के मिनिमम 50% अंक होना जरूरी है।
  • कैंडिडेट को घूमने फिरने में रूचि होनी चाहिए।

ट्रैवल एंड टूरिज्म कोर्स की फीस

ट्रैवल एंड टूरिज्म कोर्स करने के लिए विद्यार्थियों को लगभग 50 हजार से लेकर चार लाख रुपए तक की फीस देनी पड़ती है और यह फीस उस इंस्टिट्यूट के ऊपर डिपेंड करती है जहां से कैंडिडेट अपना कोर्स करना चाहता है।

ट्रैवल एंड टूरिज्म कोर्स करने के बाद सैलरी

जब छात्र अपना ट्रैवल एंड टूरिज्म कोर्स पूरा कर लेते हैं तो उसके बाद उन्हें शुरुआत में ही 20 से लेकर 30 हजार रुपए तक की सैलरी मिल जाती है और एक्सपीरियंस मिल जाने के बाद यह वेतन और भी ज्यादा बढ़ जाता है।

यह भी पढ़ें –

2. डिप्लोमा इन इंटीरियर डिजाइनिंग (Diploma in interior designing)

इंटीरियर डिजाइनिंग का कोर्स 12वीं के बाद वह छात्र कर सकते हैं जिनको क्रिएटिव कार्य करने में अत्यधिक रूचि होती है। यहां जानकारी दे दें कि इस कोर्स की अवधि एक साल की होती है जिसमें कैंडिडेट डिप्लोमा कर सकते हैं जिसके अंतर्गत उनको यह सिखाया जाता है कि किसी भी घर, फ्लैट, ऑफिस, स्कूल, इंस्टिट्यूट, हॉस्पिटल इत्यादि की सजावट किस तरह से की जाती है। इसमें डिप्लोमा हासिल करने के बाद कैंडिडेट सफलतापूर्वक इस इंडस्ट्री में काम कर सकते हैं।

इंटीरियर डिजाइनिंग कोर्स के लिए योग्यता

  • छात्र ने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं कक्षा पास की हो।
  • 12वीं क्लास में छात्र ने 50% अंक हासिल किए हों।
  • छात्र को इस क्षेत्र में रुचि होनी चाहिए।

इंटीरियर डिजाइनिंग कोर्स की फीस

इस कोर्स की फीस हर इंस्टीट्यूट या कॉलेज में अलग-अलग होती है क्योंकि कुछ नामी संस्थानों में छात्र को फीस ज्यादा देनी पड़ सकती है। वैसे अगर एवरेज फीस की बात करें तो इसके लिए 20 हजार से लेकर 2 लाख रुपए तक की फीस का भुगतान करना पड़ सकता है जो कि पूरी तरह से कॉलेज के ऊपर डिपेंड करती है।

इंटीरियर डिजाइनिंग कोर्स के बाद सैलरी

जो छात्र इंटीरियर डिजाइनिंग कोर्स करते हैं उन्हें कोर्स करने के बाद आम तौर पर शुरुआत में 15,000 से लेकर 20,000 तक का वेतन मिल जाता है जो कि अनुभव होने के बाद बढ़ जाता है।

3. डिप्लोमा इन फोटोग्राफी (Diploma in photography)

आज के समय में फोटोग्राफी के क्षेत्र में भी सफलतापूर्वक एक कामयाब कैरियर बनाया जा सकता है। पिछले कुछ वर्षों में इस इंडस्ट्री में काफी अच्छे नौकरी करने के मौके देखने को मिले हैं जिसकी वजह से बारहवीं कक्षा के बाद कुछ छात्र फोटोग्राफी का कोर्स करना चाहते हैं। यह एक वर्षीय डिप्लोमा उन छात्रों के लिए बेहतरीन है जो अपने कैरियर में दूसरों से हटकर कुछ करना चाहते हैं।

फोटोग्राफी डिप्लोमा कोर्स करने के लिए योग्यता

  • छात्र ने 12वीं किसी भी बोर्ड से पास की होनी चाहिए।
  • कैंडिडेट के 50 परसेंट मार्क्स होने चाहिए।

फोटोग्राफी डिप्लोमा कोर्स की फीस

जो छात्र फोटोग्राफी में डिप्लोमा कोर्स करना चाहते हैं उन्हें इसके लिए जो फीस देनी होगी वह उनके द्वारा चुने गए इंस्टिट्यूट के ऊपर आधारित होती है जो कि 5,000 से लेकर 5 लाख रुपए तक हो सकती है।

फोटोग्राफी डिप्लोमा कोर्स करने के बाद सेलरी

फोटोग्राफी डिप्लोमा कोर्स करके कोई भी छात्र हर महीने 20 हजार रुपए से लेकर 35 रुपए तक की सैलरी हर महीने तक पा सकता है। इसके अलावा अगर कैंडिडेट की नौकरी किसी नामी और बड़ी कंपनी में लग जाती है तो तब उसे इससे भी ज्यादा वेतनमान मिल सकता है।

4. एयर होस्टेस/ स्टीवर्ड डिप्लोमा कोर्स (air hostess/ steward diploma course)

यह कोर्स उन विद्यार्थियों के लिए बेस्ट है जो एविएशन इंडस्ट्री में कैरियर बनाने में रुचि रखते हैं। यहां बता दें कि अगर कोई लड़की इस कोर्स को करती है तो उसे एयर होस्टेस के रूप में काम करने का मौका मिलता है और इसी तरह से यदि कोई लड़का इसको उसको करता है फ्लाइट स्टीवर्ड के रूप में काम करने का अवसर मिल जाता है। साथ ही यहां जानकारी के लिए बता दें कि इस डिप्लोमा कोर्स की अवधि 6 महीने से लेकर 1 साल तक की हो सकती है।

एयर होस्टेस/स्टीवर्ड बनने के लिए योग्यता

  • स्टूडेंट ने 12वीं कक्षा 50% अंकों के साथ पास की हो।
  • छात्र की अंग्रेजी भाषा पर भी अच्छी पकड़ होनी आवश्यक है।
  • कंप्यूटर का ज्ञान होना चाहिए।
  • आकर्षक पर्सनालिटी और कम्युनिकेशन स्किल्स भी अच्छे होने चाहिए।

एयर होस्टेस/स्टीवर्ड कोर्स की फीस

जो स्टूडेंट एयरलाइन इंडस्ट्री में कैरियर बनाना चाहते हैं उन्हें इसके लिए जो कोर्स करना होगा उसके लिए उन्हें तकरीबन 50,000 से लेकर 2 लाख तक की फीस का भुगतान करना होता है। हालांकि हर संस्थान में फीस अलग-अलग होती है तो असली फीस का आइडिया छात्र को एडमिशन के समय ही लगता है।

एयर होस्टेस/स्टीवर्ड कोर्स करने के बाद सैलरी

एयर होस्टेस या फ्लाइट स्टीवर्ड कोर्स करने के बाद कैंडिडेट को एवियशन इंडस्ट्री में नौकरी मिल जाती है जहां पर उसका वेतन 40,000 से लेकर एक लाख रुपए तक हर महीने हो सकता है। वैसे कैंडिडेट को उसकी योग्यता के आधार पर इससे भी ज्यादा सैलरी मिल सकती है क्योंकि आज एविएशन सेक्टर में बहुत ही ज्यादा ग्रोथ कर ली है।

5. डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट (Diploma in hotel management

आज होटल इंडस्ट्री ने भी काफी ज्यादा ग्रोथ कर ली है जिसकी वजह से आज के अधिकतर युवा जब अपनी 12वीं क्लास पास कर लेते हैं तो उसके बाद होटल मैनेजमेंट का कोर्स करना चाहते हैं। यहां बता दें कि होटल मैनेजमेंट का कोर्स 3 साल की अवधि तक का होता है जिसको पढ़ने के बाद छात्रों को रोजगार के बहुत सारे विकल्प मिल जाते हैं।

होटल मैनेजमेंट कोर्स करने के लिए योग्यता

  • छात्र ने कम से कम 12वीं कक्षा पास की होनी चाहिए।
  • 12वीं में कैंडिडेट ने 50% अंक हासिल किए हों।
  • कैंडिडेट के कम्युनिकेशन स्किल्स अच्छे होने चाहिए।

होटल मैनेजमेंट कोर्स की फीस

अगर आपने होटल मैनेजमेंट कोर्स का मन बना लिया है तो आपको बता दें कि इसके लिए आपको लगभग 10,000 से लेकर 2 लाख रुपए तक की फीस देनी पड़ सकती है। इसलिए इस पाठ्यक्रम में दाखिला लेने से पहले जिस संस्थान से आप कोर्स करें वहां पर फीस के बारे में ठीक प्रकार से मालूमात हासिल कर लें।

होटल मैनेजमेंट कोर्स करने के बाद सैलरी

होटल मैनेजमेंट जैसे बेहतरीन कोर्स को करने के बाद छात्रों को रेस्टोरेंट मैनेजर, होटल मैनेजर, होटल असिस्टेंट, फ्रंट ऑफिस मैनेजर जैसे पदों पर काम करने का मौका मिलता है और इस प्रकार हर महीने कैंडिडेट शुरुआत में ही 15,000 से लेकर 40,000 तक का वेतन पा सकता है।

6.डिप्लोमा इन मल्टीमीडिया (Diploma in multimedia)

मल्टीमीडिया कोर्स को आज अधिकतर छात्र इसलिए करते हैं क्योंकि इसमें एक तो रोजगार के बहुत सारे अवसर उपलब्ध होते हैं और दूसरा मौजूदा समय काफी ज्यादा डिजिटलाइज हो चुका है जिसकी वजह से 12वीं के बाद छात्र इस क्षेत्र में आकर्षित हो रहे हैं। जिन छात्रों को एनिमेशन डिजाइनिंग, ग्राफिक डिजाइनिंग, वेब डिजाइनिंग जैसे विषय पसंद है वह इस इंडस्ट्री में काफी कामयाब हो सकते हैं। साथ ही यह भी बता दें कि मल्टीमीडिया में डिप्लोमा एक या 2 साल का होता है।

मल्टीमीडिया कोर्स करने के लिए योग्यता

  • छात्र ने 12वीं कक्षा किसी भी विषय में पास की होनी चाहिए।
  • छात्र को डिजिटल वर्ल्ड में इंटरेस्ट होना चाहिए।

मल्टीमीडिया कोर्स की फीस

जो छात्र 12वीं के बाद मल्टीमीडिया कोर्स करने के इच्छुक हैं उन्हें जानकारी के लिए बता दें कि इस कोर्स को करने के लिए उन्हें 40,000 से लेकर 1,00000 तक की फीस का भुगतान करना पड़ सकता है जो कि डिपेंड करता है कि कैंडिडेट ने कोर्स करने के लिए कौन सा संस्थान चुना है।

मल्टीमीडिया कोर्स के बाद सैलरी

यह कोर्स बहुत ही अच्छा है जिसका कारण है कि जैसे ही कैंडिडेट इस कोर्स को पूरा कर लेते हैं उन्हें फौरन ही नौकरी मिल जाती है जहां पर वह हर महीने 15 से लेकर 30 हजार रुपए तक का वेतनमान शुरू में ही प्राप्त कर सकते हैं

7. डिप्लोमा इन रिटेल मैनेजमेंट (Diploma in retail Management)

अगर कोई छात्र रिटेल मैनेजमेंट का कोर्स करना चाहता है तो तब निःसंदेह ही वह काफी ग्रोथ कर सकता है क्योंकि इस सेक्टर में आज बहुत सारी नौकरियों के अवसर उपलब्ध हैं। यह डिप्लोमा कोर्स पूरे 1 साल का होता है जो भारत के विभिन्न संस्थानों में आसानी के साथ कोई भी कैंडिडेट कर सकता है।

रिटेल मैनेजमेंट कोर्स करने की योग्यता

  • विद्यार्थी ने मिनिमम 12वीं कक्षा पास की होनी चाहिए।
  • अगर 12वीं कक्षा में छात्र के पास मैथमेटिक्स विषय हो तो बहुत ही उपयुक्त रहता है।

रिटेल मैनेजमेंट कोर्स की फीस

अगर कोई छात्र यह कोर्स करना चाहता है तो उसकी जानकारी के लिए बता दें कि इसके लिए उसे जो फीस देनी होगी वह 17,000 से लेकर 3 लाख रुपए तक हो सकती है। जिसकी वजह है कि अगर कैंडिडेट किसी नामी संस्थान से कोर्स करेगा तो तब फीस ज्यादा देनी पड़ती है।

रिटेल मैनेजमेंट कोर्स करने के बाद सैलरी

रिटेल मैनेजमेंट कोर्स करने के बाद कैंडिडेट शुरुआत में ही काफी आकर्षक वेतन प्राप्त करते हैं जो कि लगभग 25,000 से लेकर 35,000 रुपए तक के बीच में हो सकता है।

8.डिप्लोमा इन जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन (Diploma in journalism and mass Communication)

बहुत से छात्रों को जर्नलिज्म में बहुत ही ज्यादा इंटरेस्ट होती है जिसकी वजह से वह 12वीं के बाद इस फील्ड में जाने के इच्छुक होते हैं। यहां बता दें कि इस कोर्स की अवधि 1 साल की होती है जिसको करने के बाद छात्र इस फील्ड में काम कर सकते हैं।

जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन कोर्स करने की योग्यता

  • छात्र ने 12वीं कक्षा किसी मान्यता प्राप्त विद्यालय से पास की होनी चाहिए।
  • 12वीं कक्षा में छात्र ने 45% -50% तक अंक हासिल किए होने चाहिए।

जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन कोर्स की फीस

इस कोर्स को अगर कैंडिडेट किसी सरकारी संस्थान से करता है तो तब उसको कम फीस देनी होगी और अगर किसी प्राइवेट और बड़े संस्थान से करेगा तो तब फीस ज्यादा देनी पड़ती है इस प्रकार से इस कोर्स को करने के लिए कैंडिडेट को 14,000 से लेकर 80,000 रुपए तक की फीस का भुगतान करना पड़ सकता है।

जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन कोर्स करने के बाद सैलरी

कैंडिडेट इस फील्ड में नौकरी करके हर महीने 20,000 से लेकर 25,000 तक शुरुआत में ही पा सकते हैं और जब उन्हें कुछ सालों का अनुभव प्राप्त हो जाता है तो उसके बाद उनकी सैलरी में वृद्धि हो जाती है।

9. डिप्लोमा इन फैशन डिजाइन (Diploma in fashion design)

12वीं के बाद बहुत सारे स्टूडेंट फैशन डिजाइन के कोर्स में दाखिला लेना चाहते हैं जिसकी वजह है कि आज हमारे देश की फैशन इंडस्ट्री बहुत ही ज्यादा ग्रोथ कर रही है जिसकी वजह से इस क्षेत्र में भी नौकरी करने के अनेकों ऑप्शन मौजूद हैं। यहां बता दें कि फैशन डिजाइन कोर्स की अवधि 1 साल की होती है जिसको करने के बाद छात्रों को इस इंडस्ट्री में काम करने का अवसर मिलता है।

फैशन डिजाइन कोर्स करने के लिए योग्यता

  • इच्छुक उम्मीदवार ने कम से कम 12वीं कक्षा पास की हो।
  • 12वीं क्लास में छात्र ने 45 परसेंट से लेकर 50% अंक हासिल किए हों।

फैशन डिजाइन कोर्स की फीस

फैशन डिजाइन में जो छात्र एडमिशन लेना चाहते हैं उन्हें यहां बता दें कि इसके लिए कैंडिडेट को 15,000 से लेकर 2 लाख रुपए तक की फीस देनी पड़ सकती है। अगर आप किसी गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक या संस्थान से कोर्स करेंगे तो वहां पर फीस कम होगी और यदि किसी प्राइवेट जगह से अपना कोर्स करेंगे तो वहां पर  फीस ज्यादा देनी होगी।

फैशन डिजाइन कोर्स के बाद सैलरी

फैशन इंडस्ट्री में अगर कोई कैंडिडेट काम करना चाहता है तो उसे काफी अट्रैक्टिव से सेलरी पैकेज शुरुआत में ही मिल जाता है जो कि 25 हजार रुपए से लेकर 80 हजार रुपए तक हो सकता है। वहीं अगर कैंडिडेट में हुनर है और काबिलियत है तो वह और भी ज्यादा वेतन हर महीने पा सकता है।

10. डिप्लोमा इन इवेंट मैनेजमेंट (Diploma in event management)

इवेंट मैनेजमेंट के कोर्स के अंदर छात्रों को यह सिखाया जाता है कि बड़े-बड़े समारोह, शादियों और पार्टियों को किस प्रकार से ऑर्गेनाइज किया जाता है। छात्रों को कॉरपोरेट इवेंट्स को भी मैनेज करने की जानकारी इस कोर्स के अंतर्गत दी जाती है जिससे कि वह एक प्रोफेशनल बनकर इस क्षेत्र में काम कर सकते हैं।

इवेंट मैनेजमेंट कोर्स करने की योग्यता

  • छात्र ने किसी भी स्ट्रीम में 12वीं कक्षा पास की हो।
  • कैंडिडेट को लोगों से मिलने जुलने में रुचि होनी चाहिए।

इवेंट मैनेजमेंट कोर्स की फीस

इवेंट मैनेजमेंट कोर्स करने के लिए छात्र को पूरे कोर्स की फीस 40 हजार से लेकर एक लाख रुपए तक देनी पड़ सकती है। वैसे अगर किसी प्रतिष्ठित संस्थान से कैंडिडेट अगर कोर्स करते हैं तो तब फीस ज्यादा होती है वरना कम।

इवेंट मैनेजमेंट कोर्स के बाद सैलरी

इवेंट मैनेजमेंट कोर्स करने के बाद कोई भी कैंडिडेट हर महीने 30 हजार से लेकर 70 हजार तक आराम से कमा सकता है और यदि उसमें बहुत ज्यादा योग्यता है तो तब वह हर महीने और भी ज्यादा अर्निंग कर सकता है।

निष्कर्ष

इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया 12वीं के बाद टॉप 10 डिप्लोमा कोर्सेज के बारे में। अगर आप भी 12वीं क्लास पास करने के बाद किसी अच्छे कोर्स की तलाश में है तो हमारा यह आर्टिकल आपके लिए काफी अधिक उपयोगी रहेगा क्योंकि हमने इस पोस्ट में टॉप डिप्लोमा कोर्सेज की जानकारी दी है जिनको 12वीं के बाद कैंडिडेट आराम से कर सकते हैं और आत्मनिर्भर बन सकते हैं।

FAQ

Q: 12वीं के बाद कौन सा डिप्लोमा कोर्स करें?

Ans: 12वीं कक्षा में पास होने के बाद आप केवल वही डिप्लोमा कोर्स करें जिस विषय में आपको रूचि हो क्योंकि इस तरह से आपके सक्सेसफुल होने के चांस ज्यादा हो सकते हैं।

Q: क्या ग्रेजुएशन करने के बाद डिप्लोमा कोर्स में दाखिला लिया जा सकता है?

Ans:जी हां ग्रेजुएशन करने के बाद भी छात्र डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं लेकिन अगर 12वीं के बाद छात्र कोर्स कर लेते हैं तो तब उन्हें नौकरी जल्दी मिल जाती है।

Q: क्या डिप्लोमा कोर्स के लिए काफी अधिक फीस देनी पड़ती है?

Ans: जी नहीं डिप्लोमा कोर्स करने के लिए काफी अधिक फीस नहीं देनी पड़ती है क्योंकि हमारे देश में प्राइवेट संस्थानों के अलावा सरकारी संस्थान भी हैं जिनमें फीस काफी कम होती है।

HindiHelpAdda.Com के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. यहाँ पर हम हिंदी में पैसे कैसे कमाएँ, ब्लॉगिंग, कैरियर ,टेक्नोलॉजी, इन्टरनेट, सोशल मीडिया, टिप्स ट्रिक, फुल फॉर्म और बहुत कुछ जानकारी हिंदी में साझा करते है। आप सभी का HindiHelpAdda.Com से जुड़ने के लिए दिल से धन्यवाद्।।

a

Leave a Comment