Royal Enfield का मालिक कौन है ? Owner of Royal Enfield Company

आपने अपने आसपास कई सारी बाइक के बारे मे सुना होगा और देखा होगा। वैसे तो आज के जमाने मे ऐसी कई प्रकार की बाइक है जो आपके मन को मोह लेती है। आजकल बाजारों मे कई प्रकार की गाड़ियों का चलन है जो की रोड पर भागती हुई नजर आती है। क्या आपने कभी Royal एनफिल्ड के बारे मे सुना है ? 

अगर नहीं सुना है तो आपको बता दे की यह लेख आपके लिए है। Royal Enfield का मालिक कौन है ? Owner of Royal Enfield Company, इस लेख मे आपको इस गाडी के बारे मे बताया जाएगा। इस लेख मे आपको सम्पूर्ण इसके संदर्भ मे संपूर्ण जानकारी प्रदान की जाएगी। अतः आप इस लेख को अंत तक पढे ताकि आपको इसके बारे मे पूरी जानकारी प्रदान की जा सके।

Royal Enfield का मालिक कौन है
Royal Enfield का मालिक कौन है

रॉयल एनफील्ड क्या है ?

वैसे आपने कई प्रकार की गाड़ियों को देखा होगा जो की सडको पर तेजी से भागती है। उन सभी गाड़ियों की अपनी विशेषता होती है उन विशेषताओं मे एक यह भी है उन गाड़ियों आवाज और उनकी गति दोनो ही तेज होती है। ऐसी ही एक गाड़ी भारत मे भी है जिसे हम राॅयल एनफिल्ड के नाम से जानते है। इस गाडी के बारे मे यह कहा जाता है की यह गाडी बनाने वाली कम्पनी भारत की ही है। 

आज के समय में भारत में इस रॉयल एनफील्ड की कुल 6 बाइक बिक्री के लिए बाजार मे उपलब्ध है। इस कंपनी का सबसे कम कीमत वाला मॉडल एक ही है जिसे ‘‘रॉयल एनफील्ड बुलेट 350’’ के नाम से जाना जाता है, इस मॉडल की कीमत तकरीबन 1,27,094 रुपये है। वहीं अगर इस कंपनी के सबसे महंगे मॉडल की बात करें तो इस रॉयल एनफील्ड का सबसे महंगा मॉडल कॉन्टिनेंटल जीटी 650 है जो की आज कल काफी प्रचलन मे है नहीं इस प्रोडक्ट की कीमत तकरीबन 2,82,513 रुपये है।

आपके लिए यह बात दिलचस्प होगी की यह दुनिया की पहली बुलेट है जिसे हमारे देश मे बनाया गया है वही आज इस गाडी का उत्पादन बंद कर दिया है। इस गाडी की कम्पनी कों 1994 में आयशर ग्रुप ने खरीद लिया था जिसके बाद इस गाड़ी को रॉयल एनफील्ड के नाम से जाना गया और यह भारत के बाहर यूरोपीय देशों मे भी भेजा जाता है। 

आजादी से पूर्व इस गाड़ी को 1890 के साल मे ब्रिटिश क्राउन (राज्यसत्ता) से इस प्रकार की गाड़ियों के भारत मे उत्पादन करने की अनुमति दी थी इसके बाद इस रॉयल एनफील्ड ने सबको चौंका दिया था। इस प्रोडक्ट को बाजार मे आये कुछ समय ही नहीं हुआ ही उस वक्त प्रथम विश्व युद्ध की शुरुआत हो चुकी थी जिसके बाद इस प्रोडक्ट को बाजार मे आने के लिए थोड़ा इंतजार करना पड़ा हालांकि इस बाइक को पहले की बाजार मे लाया जा चुका था जिस वजह से यह काफी मशहूर तो हो चुकी थी। 

रॉयल एनफील्ड का मालिक कौन है ?

यह रॉयल एनफील्ड है, इसकी स्थापना 1893 के साल मेें हुई थी, शुरुआती समय मे यह एनफील्ड कंपनी साइकिल बनाने का काम था और वह उस समय दो पहिया साइकिल वाहन बनाते थे। इस कम्पनी ने पहली बार साल 1901 में पहली बार मोटरसाइकिल का निर्माण किया था जिसके बाद यह कंपनी गाडियो बनाने के बारे मे सोचने लगी। इस कम्पनी द्वारा बनाई गई पहली मोटरसाइकिल को भारतीय सेना और पुलिस द्वारा उपयोग किया गया था। 

वर्तमान मे इस कंपनी पर भारतीय कंपनी आयशर मोटर्स का कब्जा है जो की पूर्व मे इस कंपनी पर ब्रिटिश कंपनी का कब्जा था। इस कम्पनी को ब्रिटिश कम्पनी से आयशर मोटर्स ने इस कम्पनी को साल 1994 में इस कंपनी को खरीद लिया था और उस समय के बाद से यह कंपनी रॉयल एनफील्ड कम्पनी के नाम से जानी जाने लगी। 

इस रॉयल एनफील्ड कम्पनी ने अपने समय के पिछले 100 साल में बहुत से उतार चढ़ाव देखे हैं इसमे कई रोचक तथ्य है। इस कम्पनी ने अपने जीवन मे सबसे बडा बदलाव तो यही देखा की जिस कम्पनी ने पहली बार राॅयल एनफील्ड बनाई उसके बाद उसी कम्पनी ने उसे बनाना बंद कर दिया। इस प्रकार की गाडी को पहली बुलेट ब्रिटिश फौज के लिए तैयार की गई थी ताकि उसे फौज के लिए इस्तेमाल कर सके। 

इस कम्पनी की इस गाडी को ब्रिटिश सरकार ने इस्तेमाल किया उसके बाद इस गाडी को रूस की फौज ने इसका इस्तेमाल अपनी देश की फौज के लिए किया था। इस समय के बाद इस कंपनी की गाडी को भारतीय आर्मी ने खरीद लिया जिसके बाद इसको भारत – पाकिस्तान की सीमा की चकबंदी करने के लिए लगाया गया। 

मद्रास (चेन्नई) में पहली बार बनी एनफील्ड

इस प्रकार की गाडी बनाने के लिए मद्रास मोटर्स ने बुलेट असेंबल करने की ट्रेनिंग के लिए अपने कुछ सदस्यों को जो की टेक्नोक्रेट्स थे, को इंग्लैंड भेजा था ताकि वे ट्रेनिंग ले सके व ऐसा ही गाड़ी अपने देश मे बना सके। उस ट्रनिंग के बाद भारत मे इस कम्पनी ने गाडियों को भारत मे बनाना आरम्भ किया और उसके बाद भारत की पुलिस को बुलेट मिलते ही इसके बाद आसपास के लोगों के साथ देश को लोगो में इसका क्रेज सर चढ़ कर बोलने लगा और इसकी मांग भी बढने लगी। 

भारत मे लोगो के बुलेट के प्रति क्रेज को देखकर इस रॉयल एनफील्ड कम्पनी ने जो की यूके की थी, ने भारत में एनफील्ड इंडिया लि. नाम से एक सहायक कंपनी बनाई और मद्रास (जो कि अब चेन्नई के नाम से जाना जाता है) में फैक्ट्री स्थापित कर ली और उसके बाद सर्वप्रथम चेन्नई मे इस गाड़ी को पहली बार बनाया गया था। 

जिस प्रकार से इस कंपनी की गाडी की शुरुआत हुई और इसके भारत मे आने के बाद इसका क्रेज बढ़ने लगा जिसके बाद इस कंपनी का एक मॉडल का चर्चा मे रहा था, 2009 मे इस कम्पनी ने ‘‘क्लासिक’’ नाम से एक मोटरसाइकिल को रिलीज किया था जिसके बाद इसकी मॉडल की मांग काफी बढ़ने लगी। इस गाडी का मांग बढ़ने के साथ ही इस कंपनी का निर्माण भी उतनी ही तेजी से होने लगा था। 

आज के समय मे भारत से इस गाडी का निर्यात कई देशों मे किया जाता है जैसे ‘‘ युरोप, अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, और ऑस्ट्रेलिया’’ इत्यादि। इस एनफील्ड कम्पनी द्वारा भारत से बाहर तकरीबन 450,000 मोटरसाइकिल भारत के बाहर बेची जाती है। 

इस गाड़ी को आपने शोले मे जय वीरू की जोड़ी के साथ देखा होगा। इस गाडी का उपयोग तो बॉलीवुड मे किया गया है ही परन्तु इस गाडी का इस्तेमाल इस मूवी के अलावा पहली बार उपयोग प्रथम विश्व युद्ध में मशीन गन एवं आर्मी में किया गया था, ताकि फौज को एक बेहतर सुविधा मिल सके। 

राॅयल एनफिल्ड बाईक के बारे मे कुछ तथ्य

  • इस राॅयल एनफिल्ड बाईक को पहली बार साल 1901 मे बनाया गया था। 
  • इस बाइक को बनाने के उद्देश्य के बारे मे देखे तो इस बाइक को बनाने का उद्देश्य युद्ध के समय सुविधा प्रदान करना था। 
  • इस बाइक टैगलाइन बनाती है इस बाइक को खास ‘‘ Made like a gun, goes like a bullet ’’
  • भारत की आजादी के बाद इसे पहली बार भारत में भारत – पाकिस्तान की चकबंदी करने के लिए खरीदा गया था। 

इस लेख मे आपको जो भी जानकारी उपलब्ध करवाई गई है वो सम्पूर्ण रूप से इंटरनेट पर से ली गई है। इस जानकारी को कलेक्ट करते समय वैसे तो काफी सावधानिया बरती गई है परन्तु फिर भी इसको आप एक बार वेरिफाई जरूर करे। इस लेख मे बताई गई जानकारी पर विश्वास किया जा सकता है परन्तु इस बात की किसी भी प्रकार की पुष्टि नही करते है। 

निष्कर्ष

इस लेख मे आपको प्रथम विश्व युद्व के दौरान इस्तेमाल की गई रॉयल एनफील्ड गाड़ी के बारे मे बताया गया है। इस गाडी की सम्पूर्ण जानकारी के बारे मे भी आपको इस लेख के माध्यम से बताया गया है। आज के समय में भारत में इस रॉयल एनफील्ड की कुल 6 बाइक बिक्री के लिए बाजार मे उपलब्ध है।

उम्मीद करते है Royal Enfield का मालिक कौन है ? Owner of Royal Enfield Company, आपको यह लेख पसंद आया होगा और यह जानकारी आपके लिए उपयोगी रही होगी। 

FAQ

प्रश्न 1 – Royal एनफिल्ड बाईक के बारे मे ?

उत्तर – इस गाडी की कम्पनी कों 1994 में आयशर ग्रुप ने खरीद लिया था जिसके बाद इस गाड़ी को रॉयल एनफील्ड के नाम से जाना गया और यह भारत के बाहर यूरोपीय देशों मे भी भेजा जाता है। 

प्रश्न 2 – Royal एनफिल्ड बाईक के निर्माता के रूप मे किसे जाना जाता है ?

उत्तर – इसकी स्थापना 1893 के साल मे हुई थी, शुरुआती समय मे यह एनफील्ड कंपनी साइकिल बनाने का काम था और वह उस समय दो पहिया साइकिल वाहन बनाते थे। 

प्रश्न 3 – रॉयल एनफील्ड को पहली बार भारत के किस शहर मे बनाया गया ?

उत्तर – भारत में एनफील्ड इंडिया लि. नाम से एक सहायक कंपनी बनाई और मद्रास (जो कि अब चेन्नई के नाम से जाना जाता है) में फैक्ट्री स्थापित कर ली और उसके बाद सर्वप्रथम चेन्नई मे इस गाड़ी को पहली बार बनाया गया था। 

प्रश्न 4 – रॉयल एनफील्ड का मुख्यालय कहाँ स्थित है ?

उत्तर – अगर इस कंपनी के मुख्यालय की बात करें तो इस कम्पनी का मुख्यालय भारत मे चेन्नई मे स्थित है। 

प्रश्न 5 – रॉयल एनफील्ड का वर्तमान सीईओ कौन है ?

उत्तर – इस कंपनी का वर्तमान मे सीईओ विनोद के दासरी है। 

HindiHelpAdda.Com के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. यहाँ पर हम हिंदी में पैसे कैसे कमाएँ, ब्लॉगिंग, कैरियर ,टेक्नोलॉजी, इन्टरनेट, सोशल मीडिया, टिप्स ट्रिक, फुल फॉर्म और बहुत कुछ जानकारी हिंदी में साझा करते है। आप सभी का HindiHelpAdda.Com से जुड़ने के लिए दिल से धन्यवाद्।।

a