मैकेनिकल इंजीनियर (Mechanical Engineer) कैसे बनें ?

नमस्कार! दोस्तों इस पोस्ट के माध्यम से आज हम आपको बताएंगे कि मैकेनिकल इंजीनियर (Mechanical Engineer) कैसे बनें ? how to become mechanical engineer? जिन लोगों को मशीनों को बनाने में बहुत ज्यादा दिलचस्पी होती है और उन्हें मशीनों का काम करना भी पसंद होता है तो उम्मीदवार मैकेनिकल इंजीनियरिंग की फील्ड में जा सकते हैं। तो यदि आपको भी इस क्षेत्र में जाना है तो आपको इसके बारे में सारी जानकारी होनी चाहिए। लेकिन अगर आपको यह मालूम नहीं है कि आप किस तरह से मैकेनिकल इंजीनियर बन सकते हैं तो हमारे इस पोस्ट को सारा पढ़ें।

मैकेनिकल इंजीनियर (Mechanical Engineer) कैसे बनें
मैकेनिकल इंजीनियर (Mechanical Engineer) कैसे बनें

मैकेनिकल इंजीनियर क्या होता है (What is Mechanical Engineer in Hindi)

सबसे पहले आपको हम यह बता दें कि मेकेनिकल इंजीनियर क्या होता है? तो दोस्तों मेकेनिकल इंजीनियर को मशीनों से संबंधित सारी बातों की जानकारी होती है जैसे कि उनकी डिजाइनिंग और उनको बनाने का कार्य। इसके साथ साथ औजारों को बनाने के अलावा मशीनों के निर्माण का काम आप मैकेनिकल इंजीनियर बन कर कर सकते हैं। अगर आपको यह सभी काम करने अच्छे लगते हैं तो आप 12वीं कक्षा पास करने के बाद मैकेनिकल इंजीनियर बनने के लिए डिप्लोमा या फिर डिग्री कोर्स में प्रवेश ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें –

मैकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स की लिस्ट (Mechanical Engineering Course List)

मैकेनिकल इंजीनियर बनने के लिए आपको इससे संबंधित कोर्स में दाखिला लेना होगा। यहां आपको बता दें कि मैकेनिकल इंजीनियरिंग के क्षेत्र में विभिन्न प्रकार के कोर्स अवेलेबल है जैसे कि-

  • बीटेक इन मैकेनिकल  इंजीनियरिंग (B.Tech in mechanical engineering)
  • बीई इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग (BE in mechanical engineering)
  • डिप्लोमा इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग (diploma in mechanical engineering)

यह भी पढ़ें – मोबाइल इंजीनियर (Mobile Engineer) कैसे बने ?

मैकेनिकल इंजीनियर बनने के लिए योग्यता -(Mechanical Engineer Eligibility) 

जो कैंडिडेट मैकेनिकल इंजीनियर बनना चाहते हैं उनके अंदर निम्नलिखित शैक्षिक योग्यताएं होनी चाहिए जो कि इस प्रकार से हैं-

  • कैंडिडेट ने साइंस सब्जेक्ट में 12वीं कक्षा पास की हो।
  • उम्मीदवार के पास 12वीं कक्षा में विज्ञान के अलावा गणित भी होना चाहिए।
  • कैंडिडेट के 12वीं कक्षा में 60% तक अंक होने अनिवार्य है।

यह भी पढ़ें –मरीन इंजीनियर (Marine Engineer) कैसे बने ?

मैकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स के लिए प्रवेश प्रक्रिया (Admission Process for Mechanical Engineering Course)

यहां आपको बता दें कि अगर आप मैकेनिकल इंजीनियर बनना चाहते हैं तो इसके लिए आपको मैकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स में प्रवेश लेना होगा लेकिन आपको इस कोर्स में दाखिला तभी मिलेगा जब आप इससे संबंधित एंट्रेंस एग्जाम को पास कर लेंगे। साथ ही यह भी जान लीजिए कि मैकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स के लिए होने वाली प्रवेश परीक्षाएं हर साल आयोजित होती हैं जिसमें वह सभी उम्मीदवार भाग लेते हैं जो मैकेनिकल इंजीनियर बनना चाहते हैं। यहां हम आपको बता दें कि कैंडिडेट को इसके लिए निम्नलिखित परीक्षाओं को पास करना होगा जैसे कि –

  • जेईई मेंस
  • डब्ल्यूबी जेईई
  • कॉमेडेक
  • यूपीएसईई
  • विट्जेईई
  • एमएचसीईटी

यहां आपको इस बात की जानकारी भी दे दें कि अगर आप मैकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स से संबंधित परीक्षा को पास नहीं कर पाते हैं तो ऐसे में आपको बिल्कुल भी मायूस होने की जरूरत नहीं है क्योंकि अगर आप चाहें तो बहुत सारे प्राइवेट इंस्टिट्यूट भी हमारे देश में हैं जहां पर आपको एडमिशन के लिए एंट्रेंस एग्जाम देने की जरूरत नहीं होगी बल्कि आप के 12वीं कक्षा के मार्क्स के आधार पर आपको वहां पर एडमिशन मिल जाएगा।

यह भी पढ़ें – रेलवे इंजीनियर (Railway engineer) कैसे बने ?

भारत में टॉप मैकेनिकल इंजीनियरिंग कॉलेज (Top Mechanical Engineering College in India)

  • दिल्ली कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग, दिल्ली (Delhi College of Engineering, Delhi)
  • बिट्स पिलानी इंस्टीट्यूट (BITS Pilani Institute)
  • अन्ना विश्वविद्यालय, (Anna Vishwavidyalay Chennai)
  • नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, खरगपुर (National Institute of Technology, Kharagpur)
  • नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मद्रास (National Institute of Technology, Madras)
  • नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मुंबई (National Institute of Technology Mumbai)
  • नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कानपुर (National Institute of Technology, Kanpur)
  • नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी तिरुचिरापल्ली (National Institute of Technology Tiruchirappalli)
  • मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, मणिपाल (Manipal Institute of Technology, Manipal)

मैकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स की फीस (Mechanical Engineering Courses Fees)

यदि आप आप यह जानना चाहते हैं कि मेकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स करने के लिए कितनी फीस आपको देनी पड़ सकती है तो आप यहां यह जान लीजिए कि आपके कोर्स की फीस आपके संस्थान और कोर्स की अवधि के ऊपर डिपेंड करती है जैसे कि यदि आपने किसी प्राइवेट संस्थान में एडमिशन लिया है तो वहां पर आपको सरकारी संस्थान के मुकाबले में अधिक फीस देनी होगी और इसी प्रकार से यदि आप डिप्लोमा कोर्स करते हैं तो आप को कम फीस देनी होगी। आपको यहां पर एक अनुमान देने के लिए हम बता देते हैं कि मैकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स के लिए आपको तकरीबन 50,000 रुपए से लेकर 2 लाख रुपए तक की फीस का भुगतान करना होता है।   

मैकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स के बाद नौकरी (Jobs After Mechanical Engineering Course)

जब आप मैकेनिकल इंजीनियरिंग का कोर्स पूरा कर लेंगे तो उसके बाद आपको इस फील्ड में बहुत सारी नौकरियां करने के अवसर मिल जाएंगे। यहां बता दें कि मैकेनिकल इंजीनियरिंग एक ऐसी इंडस्ट्री है जहां पर आपको प्राइवेट सेक्टर के साथ-साथ सरकारी सेक्टर में भी नौकरी करने का मौका मिल जाएगा। यहां हम आपको कुछ नौकरियों के नाम बता रहे हैं जो आप मैकेनिकल इंजीनियर बन कर कर सकते हैं जैसे कि-

  • मेंटेनेंस इंजीनियर
  • पैट्रोलियम इंजीनियर
  • एयरोस्पेस इंजीनियर
  • क्वालिटी चेक इंजीनियर इत्यादि

मैकेनिकल इंजीनियर के कार्य (Mechanical Engineer Works)

मैकेनिकल इंजीनियर के पद पर जो कैंडिडेट कार्य करता है उसके अंतर्गत उसे अपने काम को बहुत ही ज्यादा जिम्मेदारी के साथ निभाना होता है। एक मैकेनिकल इंजीनियर निम्नलिखित कार्य करता है जैसे कि-

  • हवाई जहाज और परिवहन के विभिन्न प्रकार के उपकरणों को बनाने का काम करता है।
  • मशीनों का सारा मैकेनिकल काम और मशीनों के इंजन को बनाता है।
  • पावर जनरेटर के डिजाइन का निर्माण करता है और टरबाइन बनाने के साथ-साथ उस में होने वाली खराबी को भी ठीक करने का काम करता है।
  • थर्मल, मोटर, हाइड्रोलिक मशीन और हीट एक्सचेंजर को डिजाइन करने के अलावा उनके रख-रखाव का काम भी करते हैं।
  • तेल इंडस्ट्री में एक मैकेनिकल इंजीनियर बहुत महत्व रखते हैं और इस फील्ड में वह प्रोजेक्ट के लीडर होते हैं।
  • विभिन्न तरह के उपकरणों की डिजाइनिंग का काम भी मेकेनिकल इंजीनियर ही करते हैं उदाहरण के तौर पर विकलांगों के लिए कृत्रिम अंग बनाना और भार उठाने वाली क्रेन मशीनें बनाने का काम।
  • इसके साथ साथ लोगों के घरों में पानी के पंपिंग वाले उपकरणों का निर्माण भी मैकेनिकल इंजीनियर ही करते हैं।

मेकेनिकल इंजीनियर का वेतन(Mechanical Engineer Salary)

मैकेनिकल इंजीनियर बनने के बाद कोई भी कैंडिडेट बहुत अच्छे सैलरी पैकेज के साथ नौकरी कर सकता है। यहां आपको बता दें कि प्राइवेट कंपनियों में नौकरी करने वाले मैकेनिकल इंजीनियर को हर महीने 30,000 रुपए से लेकर 40,000 रुपए तक का वेतन मिल जाता है। ‌इसी तरह से सरकारी डिपार्टमेंट में काम करने वाले मैकेनिकल इंजीनियर को प्रतिमाह 60,000 रुपए से भी ज्यादा का वेतनमान मिल जाता है और इसके अलावा दूसरी सरकारी सुविधाएं भी मिल जाती हैं।

निष्कर्ष

तो दोस्तों यह था आज का पोस्ट मैकेनिकल इंजीनियर (Mechanical Engineer) कैसे बनें/ how to become mechanical engineer? इस लेख के द्वारा हमने आपको जानकारी दे दी है कि आप किस प्रकार से मैकेनिकल इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं और इसके बारे में जो भी आवश्यक बातें थी वह हमने आपको बताई हैं जैसे कि –

  • मेकेनिकल इंजीनियर क्या होता है
  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स लिस्ट
  • मैकेनिकल इंजीनियर बनने के लिए योग्यता
  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स के लिए प्रवेश प्रक्रिया
  • भारत में टॉप मैकेनिकल इंजीनियरिंग कॉलेज
  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स की फीस
  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स के बाद नौकरी
  • मैकेनिकल इंजीनियर के कार्य
  • मैकेनिकल इंजीनियर का वेतन

हमें उम्मीद है की मैकेनिकल इंजीनियर (Mechanical Engineer) कैसे बनें पर हमारा यह लेख आप को जरूर पसंद आया होगा। अगर पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कर। धन्यवाद्

HindiHelpAdda.Com के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. यहाँ पर हम हिंदी में पैसे कैसे कमाएँ, ब्लॉगिंग, कैरियर ,टेक्नोलॉजी, इन्टरनेट, सोशल मीडिया, टिप्स ट्रिक, फुल फॉर्म और बहुत कुछ जानकारी हिंदी में साझा करते है। आप सभी का HindiHelpAdda.Com से जुड़ने के लिए दिल से धन्यवाद्।।

a

Leave a Comment