M Pharma कोर्स (M Pharma Course) क्या है कैसे करें?

इस पोस्ट के माध्यम से आज हम बताएंगे M pharma कोर्स (M pharma Course) क्या है कैसे करें?- (What is M Pharma Course, how to do M Pharma Course complete Information in Hindi) अगर आपने बी फार्मा कोर्स पूरा कर लिया है और आप पूरी तरह से इसी लाइन में जाना चाहते हैं तो तब एमफार्मा कोर्स आपके लिए बेहद उपयुक्त है। यहां बता दें कि एम फार्मा मेडिकल ग्रेजुएट को दवाइयों के बारे में बहुत ही ज्यादा नॉलेज होती है जिसकी वजह से उसे नौकरी के अच्छे अवसर मिल जाते हैं। आपको इस कोर्स के बारे में सारी जरूरी जानकारी जाननी है तो हमारे इस लेख को सारा जरूर पढ़ें और जानें कि इस क्षेत्र में कैरियर बनाने के लिए आपको कौन सा पाठ्यक्रम पढ़ना होगा और काम करने के लिए आपको कौन-कौन सी प्रक्रियाएं अपनानी होंगी।

M Pharma कोर्स (M Pharma Course) क्या है कैसे करें
M Pharma कोर्स (M Pharma Course) क्या है कैसे करें

एमफार्मा क्या है (what is M Pharma in Hindi)

यहां आपको बता दें कि एमफार्मा का पूरा नाम मास्टर ऑफ फार्मेसी  (Master of Pharmacy) है और इस कोर्स को वही कैंडिडेट करते हैं जिनके पास बी फार्मा की डिग्री होती है। इस तरह से जब एम फार्मा का कोर्स पूरा हो जाता है तो कैंडिडेट को फिर फार्मेसी में पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री मिल जाती है। वैसे यहां बता दें कि पुराने समय में फार्मेसी की इंडस्ट्री बहुत ही ज्यादा प्रचलित नहीं थी लेकिन गुजरे कुछ सालों में यह इंडस्ट्री काफी तेजी से वृद्धि कर रही है। इसलिए छात्रों का रुझान फार्मेसी की तरफ काफी अधिक होने लगा है जिसकी वजह से एम फार्मा के कोर्स में भी बहुत सारे स्टूडेंट दाखिला लेते हैं। यहां बता दें कि यह कोर्स 2 साल का होता है जिसको करने के बाद कैंडिडेट को नौकरी करने के बहुत ही बेहतरीन विकल्प भी मिल जाते हैं।

यह भी पढ़ें –

एम फार्मा के लिए योग्यता (M Pharma eligibility)

इच्छुक उम्मीदवारों के अंदर निम्नलिखित योग्यता का होना बेहद जरूरी है जैसे कि-

  • कैंडिडेट में बी फार्मा किया होना चाहिए।
  • बैचलर ऑफ फार्मेसी में उसके कम से कम 50 परसेंट अंक होने जरूरी है।
  • दवाइयों की जानकारी होनी चाहिए।

एमफार्मा करने की प्रक्रिया (M Pharma course process)

एम फार्मा करने के लिए जरूरी है कि कैंडिडेट सबसे पहले सफलतापूर्वक अपना बी फार्मा कोर्स कंप्लीट करें। इसके बाद यह मालूम करें कि इसके लिए कौन सा संस्थान अच्छा है जहां से यह कोर्स किया जा सकता है। ‌साथ ही साथ आपको बता दें कि कैंडिडेट को नेशनल लेवल एंट्रेंस टेस्ट को भी पास करना होता है। जिसके बाद ही उसे किसी श्रेष्ठ कॉलेज में एडमिशन मिल पाता है।

एम फार्मा कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा (M Pharma course entrance exam)

जिन छात्रों ने अपना बी फार्मा कोर्स पूरा कर लिया है और उसके बाद अगर वह एम फार्मा कोर्स करना चाहते हैं तो इसके लिए उन्हें नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के द्वारा आयोजित एक प्रवेश परीक्षा में भाग लेना होगा जो कि एक ग्रेजुएट फार्मेसी एप्टिट्यूड टेस्ट (Graduate Pharmacy Aptitude Test-GPAT) होता है और उसमें सफलता हासिल करने के बाद ही मास्टर ऑफ फार्मेसी में दाखिला मिलता है। इसके अलावा भी कुछ अन्य प्रवेश परीक्षाएं भी देशभर में कंडक्ट करवाई जाती हैं। इसलिए छात्र को एडमिशन लेने से पहले प्रवेश के बारे में सारी जानकारी जान लेना जरूरी होता है और फिर उसी अनुसार उसे अपनी तैयारी करनी चाहिए।  

एमफार्मा सिलेबस (M Pharma Syllabus)

एम फार्मा कोर्स के अंतर्गत कैंडिडेट को जो पाठ्यक्रम पढ़ाया जाता है उसकी जानकारी इस तरह से है-

  • मॉडर्न एनालिटिकल टेक्निक्स
  • एडवांस इन फार्मास्यूटिकल साइंसेज
  • फार्मास्यूटिकल क्वालिटी एश्योरेंस
  • केमिस्ट्री ऑफ मेडिकल नेचुरल प्रोडक्ट
  • ऑर्गेनिक केमिस्ट्री
  • सेल्यूलर एंड मॉलेक्युलर फार्मोकोलॉजी
  • स्पेशल टेक्निक इन ड्रग एनालिसिस
  • क्लिनिकल रिसर्च एंड अप्रूव्ड ऑफ न्यू ड्रग्स
  • फार्मास्यूटिकल केमेस्ट्री इत्यादि।

भारत में एम फार्मा कोर्स कॉलेज (Pharma course college in India)

हमारे देश भारत में आज फार्मेसी इंडस्ट्री बहुत ही ज्यादा फेल रही है जिसकी वजह से देश के शहरों में विभिन्न कॉलेज खोले गए हैं जहां पर दाखिला लेकर छात्र अपनी पढ़ाई कर सकते हैं जिनमें से कुछ अच्छे कॉलेजों की जानकारी इस प्रकार से है-

  • जवाहरलाल नेहरू टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी
  • दिल्ली इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी
  • इंस्टीट्यूट आफ केमिकल टेक्नोलॉजी मुंबई
  • जेएसएस कॉलेज ऑफ फार्मेसी
  • मणिपाल कॉलेज ऑफ़ फार्मास्यूटिकल साइंस
  • अन्नामलाई यूनिवर्सिटी
  • चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी
  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी
  • महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी
  • आंध्र यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ़ फार्मास्यूटिकल साइंस

एमफार्मा कोर्स की फीस (M Pharma course fees)

एम फार्मा कोर्स की फीस भारत के हर संस्थान में अलग-अलग होती है जैसे कि अगर कोई निजी संस्थान है तो वहां पर यह फीस ज्यादा होती है तो इसी प्रकार से सरकारी इंस्टीट्यूट में फीस काफी कम हो सकती है। वैसे यहां आपको बता दें कि इस कोर्स को करने के लिए कैंडिडेट को 50,000 से लेकर 5 लाख रुपए तक की फीस का भुगतान हर साल करना पड़ सकता है।

एम फार्मा करने के बाद नौकरी (jobs after M Pharma course)

एम फार्मा पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद उम्मीदवार के सामने इससे संबंधित फील्ड में नौकरी करने के बहुत सारे अवसर उपलब्ध हो जाते हैं जैसे कि-

  • गवर्नमेंट फार्मासिस्ट
  • मेडिसिन सेल्स रिप्रेजेंटेटिव
  • ड्रग्स इंस्पेक्टर
  • रिसर्चर और ड्रग डेवलपमेंट ऑफिसर
  • रेगुलेटरी अफेयर्स
  • प्रोफेसर
  • खुद की मेडिकल शॉप

एम फार्मा करने के बाद वेतन (Salary after M Pharma)

एम फार्मा करने के बाद किसी भी कैंडिडेट का सैलरी पैकेज डिपेंड करता है उसकी योग्यता, उसके टैलेंट और उसके काम करने के तरीके पर। इसके अलावा अगर कैंडिडेट किसी अच्छी और बड़ी कंपनी में नौकरी करता है तो तब उसे ज्यादा सैलरी मिलती है। हालांकि अगर यह अनुमान लगाया जाए कि शुरुआत में कितनी सैलरी उम्मीदवार को मिल सकती है तो बता दें कि लगभग 30,000 से लेकर 40,000 रुपए तक का वेतन हर महीने कैंडिडेट को मिल जाता है और इस क्षेत्र में एक्सपीरियंस मिलने के बाद उसे और भी ज्यादा वेतन मिल जाता है।

निष्कर्ष

इस पोस्ट के द्वारा हमने आपको जानकारी दी कि M pharma कोर्स (M pharma Course) क्या है कैसे करें?- (What is M Pharma Course, how to do M Pharma Course complete Information in Hindi) इसके बारे में सारी महत्वपूर्ण बातें भी हमने इस लेख में दे दी है जैसे कि –

  • एमफार्मा क्या है
  • एम फार्मा के लिए योग्यता
  • एमफार्मा करने की प्रक्रिया
  • एमफार्मा कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा
  • भारत में एम फार्मा कोर्स कॉलेज
  • एमफार्मा कोर्स की फीस
  • एम फार्मा करने के बाद नौकरी
  • एमफार्मा करने के बाद वेतन

FAQ

Q: एम फार्मा कोर्स कैसे करें?

Ans: जो छात्र एम फार्मा कोर्स करने में इंटरेस्ट रखते हैं उनकी जानकारी के लिए बता दें कि इस कोर्स को करने के लिए उन्हें सबसे पहले बी फार्मा का कोर्स पूरा करना होगा और उसके बाद अगर वह सरकारी संस्थान से अपना कोर्स करना चाहते हैं तो तब उन्हें राज्य स्तर की प्रवेश परीक्षा में पास होना होगा। जिसके बाद उनका दाखिला एम फार्मा में हो जाएगा।

Q: एम फार्मा में कैरियर संभावनाएं क्या क्या है?

Ans: जब कोई कैंडिडेट मास्टर ऑफ फार्मेसी में डिग्री हासिल कर लेता है तो उसके बाद उसे इस फील्ड में बहुत ही ज्यादा अच्छे नौकरी करने के मौके मिल जाते हैं जहां पर वह किसी भी दवाई कंपनी में काम करने के अलावा रिसर्च करने का कार्य भी कर सकता है। कैंडिडेट फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्रीज, हॉस्पिटल रिसर्च एंड डेवलपमेंट इंडस्ट्रीज, गवर्नमेंट एंड प्राइवेट हॉस्पिटल्स, हेल्थ केयर सेंटर इत्यादि में काम कर सकते हैं।

Q: एम फार्मा कोर्स करने के लिए देशभर में कौन सी परीक्षाएं कंडक्ट करवाई जाती हैं?

Ans: इसके लिए देश भर में निम्नलिखित प्रवेश परीक्षाएं आयोजित करवाई जाती हैं जैसे कि-

  • जीपीएटी (GPAT)
  • एएल पीजीईसीईटी (PGECET)
  • ओजीईई (OJEE)
  • टीएस पीजीईसीईटी (TS PGECET)
  • एनआईपीईआर जेईई (NIPER JEE)
  • बीआईटीएस एचडी (BITS HD)
  • एचपीसीईटी (HPCET)

Q: फार्मेसी में कैरियर कैसे बनाएं?

Ans: अगर कोई छात्र फार्मेसी इंडस्ट्री में जाना चाहता है तो उसे इसके लिए या तो डी फार्मा करना होगा या बी फार्मा और अगर वह चाहे तो उसके बाद एम फार्मा की डिग्री भी हासिल कर सकता है जिसके बाद वह इस इंडस्ट्री में काम कर सकता है।

Q: क्या बीए करने के बाद एम फार्मा किया जा सकता है?

Ans: बीए करने के बाद एमफार्मा नहीं किया जा सकता क्योंकि इसको केवल वही कैंडिडेट कर सकते हैं जिन्होंने बी फार्मा किया हो। यह इंडस्ट्री फार्मेसी की इंडस्ट्री है इसीलिए इससे संबंधित कोर्स करने वालों को ही आगे हाई एजुकेशन की पढ़ाई के लिए दाखिला दिया जाता है।

HindiHelpAdda.Com के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. यहाँ पर हम हिंदी में पैसे कैसे कमाएँ, ब्लॉगिंग, कैरियर ,टेक्नोलॉजी, इन्टरनेट, सोशल मीडिया, टिप्स ट्रिक, फुल फॉर्म और बहुत कुछ जानकारी हिंदी में साझा करते है। आप सभी का HindiHelpAdda.Com से जुड़ने के लिए दिल से धन्यवाद्।।

a

Leave a Comment