EC Full Form – EC का फुल फॉर्म क्या है ?

नमस्कार! दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको जानकारी देंगे EC Full Form  के बारे में। अगर आप भी इस का फुल फॉर्म ढूंढ रहे हैं तो आज का हमारा आर्टिकल आपके लिए बहुत अधिक लाभदायक साबित होने वाला है|

क्योंकि हम इसका फुल फॉर्म बताने के साथ-साथ इससे जुड़ी हुई और अन्य आवश्यक जानकारी भी इस पोस्ट के माध्यम से आपको देने वाले हैं। इसलिए इस पोस्ट को शुरू से लेकर अंत तक पूरा अवश्य पढ़िएगा।

EC FULL FORM
EC FULL FORM

EC Full Form – EC का फुल फॉर्म क्या है ?

EC  का फुल फॉर्म इनकंब्रेंस सर्टिफिकेट (Encumbrance Certificate)  होता है जिसको हिंदी में भार दस्तावेज कहते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि यह किसी भी प्रकार की प्रॉपर्टी को खरीदने हैं या फिर बेचने का एक बहुत ही महत्वपूर्ण दस्तावेज होता है।

EC क्या होता है?

जैसा कि हमने ऊपर बताया कि यह एक प्रॉपर्टी खरीदने और बेचने के लिए एक काफी अहम डॉक्यूमेंट होता है और यहां जानकारी के लिए बता दें कि यह सात पेज का दस्तावेज होता है जिसमें प्रॉपर्टी के मालिक के बारे में सारा विवरण होता है। इसके साथ-साथ इस दस्तावेज में यह भी रिकॉर्ड होता है कि संबंधित प्रॉपर्टी की कितनी ट्रांजैक्शन हो चुकी है। साथ ही EC से आपको यह भी जानकारी प्राप्त हो जाती है कि प्रॉपर्टी पर किसी प्रकार का कोई चार्ज तो नहीं है। यह दस्तावेज काफी अधिक अहमियत रखता है और यह सर्टिफिकेट प्रॉपर्टी में होने वाले धोखे से आपको बचा सकता है।

EC  का महत्व क्या है ?

यहां आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ईसी सर्टिफिकेट का बहुत ही अधिक महत्व होता है जिनमें से कुछ हम आपको निम्नलिखित बता रहे हैं-

  • किसी भी प्रॉपर्टी को खरीदने या बेचने के लिए यह दस्तावेज बहुत ही ज्यादा अहम होता है।
  • अगर आप अपनी प्रॉपर्टी पर बैंक से लोन लेना चाहते हैं तो उस समय भी यह इनकंब्रेंस सर्टिफिकेट काफी उपयोगी रहता है क्योंकि बैंक आप से EC  मांगता है।
  • किसी भी संपत्ति के कानूनी मालिक किए सर्टिफिकेट पुष्टि करता है जिसमें यह जानकारी होती है कि मौजूदा समय में इसका मालिक कौन है।

EC कैसे बनवाया जा सकता है ?

EC बनवाने के लिए आपको उस जगह के सब-रजिस्ट्रार के पास जाना होगा जहां पर आप की प्रॉपर्टी रजिस्टर है। यहां आपको अब एक एप्लीकेशन फॉर्म भरना होगा और उसके साथ आपको कुछ अपने अनिवार्य दस्तावेज भी लगाने होंगे जैसे आपका आधार कार्ड, घर के पते की फोटो कॉपी, प्रॉपर्टी का विवरण इत्यादि। सारी जानकारी ठीक से फार्म में भर दें और जब आप फार्म जमा करेंगे तो आपसे कुछ फीस भी मांगी जाएगी वह भी आपको देनी होगी। उसके बाद 25-30 दिनों में प्रॉपर्टी का रिकॉर्ड चेक करने के बाद आपको EC दे दिया जाएगा।

निष्कर्ष

दोस्तों यह तो हमारा आज का आर्टिकल जिसमें हमने आपको बताया EC Full Form क्या होता है और इसके अलावा हमने आपको यह जानकारी भी दी कि इसका प्रयोग प्रॉपर्टी में किस प्रकार होता है।

‌इसके साथ-साथ हमने आपको यह जानकारी भी दी कि आप किस प्रकार इनकंब्रेंस सर्टिफिकेट बनवा सकते हैं। हमें पूरी आशा है कि आपको हमारा ही आर्टिकल बेहद पसंद आया होगा इसलिए हमारी आप से रिक्वेस्ट है कि इस आर्टिकल को सोशल मीडिया पर दूसरे लोगों के साथ भी शेयर करें ताकि उन तक भी जानकारी पहुंच जाए।

यह भी पढ़ें –

HindiHelpAdda.Com के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. यहाँ पर हम हिंदी में पैसे कैसे कमाएँ, ब्लॉगिंग, कैरियर ,टेक्नोलॉजी, इन्टरनेट, सोशल मीडिया, टिप्स ट्रिक, फुल फॉर्म और बहुत कुछ जानकारी हिंदी में साझा करते है। आप सभी का HindiHelpAdda.Com से जुड़ने के लिए दिल से धन्यवाद्।।

a

Leave a Comment