Dabur Company का मालिक कौन है ? Owner of Dabur Company

क्या आपने कभी आयुर्वेद प्रोडक्ट को इस्तेमाल किया है ? वैसे तो इस कोरोना के काल में या कई बीमारियों में आयुर्वेद का उपयोग काफी ज्यादा हो रहा है। आयुर्वेद का विकास आज से नहीं हुआ है बल्कि कई साल पुराना है। आयुर्वेद का इस्तेमाल लगभग हर दवा में या हर प्रकार के इलाज के लिए किया जाता है। Dabur Company का मालिक कौन है ? वैसे आप जानते है की इस लेख के इसी के बारे में बताया जाएगा अतः आप इस लेख को अंत तक पढे ताकि आपको इसके बारे में पूरी जानकारी मिल सके।

Dabur Company का मालिक कौन है
Dabur Company का मालिक कौन है

डाबर का परिचय 

डाबर कम्पनी का इतिहास काफी पुराना है जब 1884 में बर्मन परिवार ने भारत मे एक एक छोटी दवा की दुकान खोली थी जो आयुर्वेदिक दवाओं का बेचा किया करती थी। इस कंपनी की भारत में शुरुआत आज से तकरीबन 128 साल पहले हुई थी, जिसके बाद यह कंपनी देश का नम्बर एक ब्रांड बन गया। 

ईस्ट इंडिया कम्पनी के दामन तले कोलकाता शहर में उस समय इस बर्मन परिवार की इस छोटी सी दुकान जानी जाने वाली यह कंपनी डाबर इंडिया लिमिटेड ने अब पूरी दुनिया में अपना परचम लहरा देगी, किसी ने सोचा नहीं था। 

यह डाबर कंपनी मुख्य तौर पर आयुर्वेदिक व प्राकृतिक रूप से चिकित्सा के क्षेत्र में तकरीबन 125 साल से यह कंपनी काफी जानी पहचानी है। वर्तमान में यह कंपनी का नाम  हर्बल और नेचुरल प्रॉडक्ट के प्रोडक्ट बेचते नही थकती, इस कंपनी के पास इतने ग्राहक है जिसके बारे में अंदाजा लगाना भी मुश्किल है। 

इस कंपनी के समान ही भारत में चलने वाली इस बार इंडिया के वर्तमान में तकरीबन 250 से भी अधिक प्रोडक्ट है। शुरुआती दौर में इस कंपनी के केवल दवाइयों का उत्पादन किया था परन्तु वर्तमान में यह दवाई से लेकर कई तरह के फूड तक हर जगह अपनी शान बनाये हुआ है। डाबर कंपनी के प्रोडक्ट वर्तमान में पूरी दुनिया के तकरीबन 60 से अधिक देशों में भेजे जाते हैं। 

इस कम्पनी का सिर्फ विदेश में ही कारोबार तकरीबन 500 करोड़ रुपए का है। वर्तमान मे यह कम्पनी अपने कई अलग – अलग प्रोडक्ट के लिए देश मे जाने जाती है इतना ही नही यह कम्पनी विदेशों मे भी अपने प्रोडक्ट भेजती है। 

डाबर का मालिक कौन है ?

डाबर के कम्पनी के रूप मे वर्तमान मे आनंद सी बर्मन को जाना जाता है , यह दिल्ली के निवासी है और भारत मे एक बडे व्यवसाय के मालिक है। इस डाबर ग्रुप के संस्थापक करने वाले परिवार की पांचवीं पीढ़ी से सम्बंध रखने वाले यह आनन्द जी बर्मन को फार्मास्युटिकल साइंस में रिसर्च एंड डिवेलपमेंट के रूप मे जाना जाता है और आन्न्द की इन सब मे रूचि भी है। 

वर्तमान में आन्नद के पास उनके नाम पर तकरीबन 40 से अधिक पेटेंट हैं। दूनिया मे रिसर्च की बातें बताने वाली फोर्ब्स कंपनी ने आनन्द की नेटवर्थ का तकरीबन 1.87 अरब डॉलर तक के होने का अनुमान लगाया था, हालांकि यह केवल अनुमान था। अगर इस कम्पनी की बात करे तो इस डाबर कम्पनी का का सालाना कंसॉलिडेटेड रेवेन्यू तकरीबन 7,700 करोड़ रुपये का है जो की काफी ज्यादा संख्या है और इसे देश की टॉप पांच फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स (एफएमसीजी) कंपनियों में शामिल करने मे मदद करता है। 

इनके जीवन सफर की बात करे तो इन्होने आज से तकरीबन 2 वर्ष पहले डाबर के चेयरमैन रहते हुए वी सी बर्मन ने नई दिल्ली के गोल्फ लिंक्स एरिया में तकरीबन 160 करोड़ रुपये का एक बडा बंगला खरीदा था। इस परीवार के पास दिल्ली मे पृथ्वीराज रोड पर भी एक प्रॉपर्टी है जो काफी बडी मात्रा मे है। इस से सम्बंध मे रियल एस्टेट सेक्टर के एनालिस्ट्स का कहना है कि इस वर्ष यानी वित वर्ष 2020 – 21 मे इकनॉमी में मंदी के कारण इस तरह की बड़ी  से बडी परचेज भी कम हुई हैं। पर आपको बता दे की इस कम्पनी ने वर्तमान मे एक और 82 करोड रूपये का एक बंगला खरीदा है। 

डाबर मे निवेश की मांग

हमारे देश के शहरी मध्य वर्ग जो कि काफी तेजी से बढ़ने बढ़ रहे है  ओर इससे फास्ट-मूविंग कंज्यूमर गुड्स प्रकार की कंपनियों (FMCG) को काफी फ़ायदा हुआ है। ऐसे ग्रामीण क्षेत्रों में खपत बढ़ने का भी उन्हें काफी लाभ मिला है। यह भारत देश की कुछ प्रमुख एफएमसीजी कंपनियों से एक है जो वर्तमान में देश में संचालित है, यह कंपनी और दूसरी कंपनी के मुकाबले में इस कंपनी को ज्यादा फायदा हुआ है। इसकी वजह तो यह भी है कि इस प्रकार के नेचुरल, हर्बल और आयुर्वेदिक प्रोडक्टों की मांग लगातार दुनिया मे बढ़ रही है। 

अगर इस कम्पनी के प्रोडक्ट की बात करे तो यह एक सामान्य ई-काॅमर्स वैबसाईट की बात करे तो कई प्रोडक्ट बेचती है जो रोज के जीवन मे लाभदायक होती है। इन प्रोडक्ट में आंवला संबंधित प्रोडक्ट, ब्यूटी पार्लर संबंधित प्राॅडक्ट, इत्यादि कई प्रोडक्ट बेचती है जो आयुर्वेद से बनते है।

डाबर कंपनी में कैसे बनाये करियर

डाबर कंपनी में अगर आप काम करने की सोच रहे है या इस कंपनी के साथ जुडकर पैसा कमाने की सोच रहे है तो यह कंपनी आपको भी यह मौका दे सकती है। इस कंपनी में आपको अगर आवेदन करना है तो आप इन आसान से प्रोसेस के जरिये आवेदन कर सकते है। 

  • फार्म भर कर जानकारी भेजे – इस डाबर कंपनी से अगर आप जुडना चाहते है तो उसके लिए आपको अपनी जानकारी इन्हें भेजनी होगी। आगे बताये गये लिंक जरिये आपको एक फॉर्म भरकर ऑनलाइन सबमिट करना होगा। इस फॉर्म में सभी जरूरी जानकारी भरना जरूरी है। इस फॉर्म में मांगी जाने वाली सभी सूचनाएं जरूरी है तो पूरी जानकारी शांति व धैर्य के साथ भरें। ( https://www.dabur.com/contact/career )
  • ई-मेल के जरिये भेजे अपना आवेदन पत्र व रिज्यूम – फॉर्म में मांगी गई जानकारी अगर आप नहीं भर पाते है तो आप इनके ई-मेल एड्रेस पर भी अपनी जानकारी भेज सकते है जिसके बाद वे आपसे संपर्क करेंगे और आपका इंटरव्यू भी लेंगे। ( daburcares@feedback.dabur ) 
  • मोबाईल फोन से करे संपर्क – डाबर कंपनी से सम्पर्क करने के लिए आपके इनके टाॅल फ्री मोबाइल नम्बर पर भी सम्पर्क कर सकते है। 1800-103-1644 यह इस कंपनी का टोल फ्री नम्बर है इस पर आप आसानी से सम्पर्क कर अपने से संबंधित जानकारी ले सकते है। 

डाबर कंपनी के कस्टमर सपोर्ट से संपर्क करने के लिए आप इस पेज पर जा सकते है जहाँ आप अपने सवाल इस कंपनी के कस्टमर केयर को भेज सकते है। ( https://www.dabur.com/contact-us.aspx

इस लेख में आपको जो भी प्रोडक्ट के बारे मे बताया गया है वो हमने पूर्ण रूप से इंटरनेट पर रिसर्च कर के बताया गया है। इस प्रकार की जानकारी जो की मेडिकल से जुड़ा हो, उसके बारे में आपको एक बार आपको इंटरनेट पर रिसर्च कर लेना चाहिए।

निष्कर्ष

Dabur Company का मालिक कौन है ? Owner of Dabur Company इस लेख मे आपको डाबर के बारे मे बताया जा रहा है। इस लेख मे आपको जो भी जानकारी प्रदान की गई है वो इंटरनेट से ली गई है। डाबर कम्पनी का इतिहास काफी पुराना है जब 1884 में बर्मन परिवार ने भारत मे एक एक छोटी दवा की दुकान खोली थी जो आयुर्वेदिक दवाओं का बेचा किया करती थी। इस कंपनी की भारत मे शुरूआत आज से तकरीबन 128 साल पहले हुई थी, जिसके बाद यह कम्पनी देश का नम्बर एक ब्रांड बन गया। यह कम्पनी इतने समय मे इतनी तरक्की कर लेगा किसी ने सोचा था। आपको बता दे की ईस्ट इंडिया कम्पनी के दामन तले कोलकाता शहर मे उस समय इस बर्मन परिवार की इस छोटी सी दुकान जानी जाने वाली यह कंपनी डाबर इंडिया लिमिटेड ने अब पूरी दुनिया में अपना परचम लहरा देगी, किसी ने सोचा नही था। 

FAQ

प्रश्न 1 – किस प्रकार की कंपनी है ?

उत्तर – इस कंपनी की भारत मे शुरूआत आज से तकरीबन 128 साल पहले हुई थी, जिसके बाद यह कम्पनी देश का नम्बर एक ब्रांड बन गया। यह कम्पनी इतने समय मे इतनी तरक्की कर लेगा किसी ने सोचा था। आपको बता दे की ईस्ट इंडिया कम्पनी के दामन तले कोलकाता शहर मे उस समय इस बर्मन परिवार की इस छोटी सी दुकान जानी जाने वाली यह कंपनी डाबर इंडिया लिमिटेड ने अब पूरी दुनिया में अपना परचम लहरा देगी, किसी ने सोचा नही था।

प्रश्न 2 – डाबर का मालिक कौन है ?

उत्तर – डाबर के कम्पनी के रूप मे वर्तमान मे आनंद सी बर्मन को जाना जाता है , यह दिल्ली के निवासी है और भारत मे एक बडे व्यवसाय के मालिक है। इस डाबर ग्रुप के संस्थापक करने वाले परिवार की पांचवीं पीढ़ी से सम्बंध रखने वाले यह आनन्द जी बर्मन को फार्मास्युटिकल साइंस में रिसर्च एंड डिवेलपमेंट के रूप मे जाना जाता है और आन्न्द की इन सब मे रूचि भी है।

प्रश्न 3 – डाबर का मुख्यालय कहा है ?

उत्तर – अगर इस डाॅबर के मुख्यालय की बात करे तो इसका मुख्यालय वर्तमान मे गाजियाबाद मे स्थित है जहा से इस का पूरा काम मैनेज होता है।

प्रश्न 4 – डाबर का वर्तमान का सीईओ हौन है ?

उत्तर – अगर इस डाॅबर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी की बात करे तो इस कम्पनी का वर्तमान सीईओ मोहित मल्होत्रा है।

प्रश्न 5 – क्या डाबर कम्पनी निवेश करने के लिए सही है ?

उत्तर – इस के संदर्भ मे आपको बता दे की इस कम्पनी मे निवेश करने से पहले आप अपने निजी एक्सपर्ट से पता करना चाहिए।

HindiHelpAdda.Com के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. यहाँ पर हम हिंदी में पैसे कैसे कमाएँ, ब्लॉगिंग, कैरियर ,टेक्नोलॉजी, इन्टरनेट, सोशल मीडिया, टिप्स ट्रिक, फुल फॉर्म और बहुत कुछ जानकारी हिंदी में साझा करते है। आप सभी का HindiHelpAdda.Com से जुड़ने के लिए दिल से धन्यवाद्।।

a

Leave a Comment