सीएस कोर्स क्या है CS Course कैसे करें पूरी जानकारी?

नमस्कार! आज के इस आर्टिकल हम आपको बताएंगे सीएस कोर्स क्या है CS Course कैसे करें पूरी जानकारी? What is CS course, how to do CS course complete information in Hindi ,CS course in Hindi full information? आज के समय सीएस कोर्स में भी छात्र बहुत ज्यादा रुचि ले रहे हैं क्योंकि इसमें सैलरी पैकेज भी अच्छा है और आगे बढ़ने के अवसर भी बहुत ज्यादा होते हैं। यह कोर्स करने के लिए छात्र को इसके बारे में हर एक जानकारी जानना जरूरी है जिससे कि उसे पाठ्यक्रम में दाखिला लेने और उसे पूरा करने में किसी प्रकार की कोई समस्या ना हो। ‌यदि आप भी एक ऐसे छात्र हैं जो सीएस कोर्स करने के इच्छुक हैं तो हमारे आज के इस लेख को सारा जरूर पढ़ें और जानें सीएस बनने की पूरी प्रक्रिया।

सीएस कोर्स क्या है CS Course कैसे करें
सीएस कोर्स क्या है CS Course कैसे करें

सीएस कोर्स क्या है (What is CS Course in Hindi)

यहां सबसे पहले बता दें कि सीएस का फुल फॉर्म कंपनी सेक्रेट्री (company secretary) है जिसको हिंदी में कंपनी सचिव के नाम से जाना जाता है। कंपनी सेक्रेट्री वह होता है जो अपनी कंपनी की सफलता में एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसीलिए कंपनी से जुड़ी हुई सभी कानूनी गतिविधियों के साथ-साथ आवश्यक कार्यक्रमों के बारे में ध्यान रखने की जिम्मेदारी सीएस की होती है। लेकिन कंपनी सेक्रेटरी बनना इतना आसान नहीं है इसके लिए कैंडिडेट को काफी ज्यादा मेहनत की आवश्यकता होती है और सीएस कोर्स करना होता है।

सीएस कोर्स के लिए योग्यता (CS Course Eligibility)

सीएस कोर्स करने के लिए कैंडिडेट में जो योग्यताएं होनी चाहिए उनकी जानकारी निम्नलिखित हैं-

  • कैंडिडेट ने कम से कम 12वीं कक्षा पास की हो।
  • या फिर छात्र ने ग्रेजुएशन किया हो।
  • छात्र की मिनिमम आयु 17 साल रखी गई है।

यह भी पढ़ें –

सीएस बनने के लिए प्रवेश प्रक्रिया (Entrance Exam For CS)

यदि कोई छात्र सीएस कोर्स करना चाहता है तो उसे सबसे पहले इसके लिए यह जानना जरूरी है कि वह 12वीं के बाद कोर्स करेगा या फिर ग्रेजुएशन के बाद। यहां जानकारी के लिए बता दें कि अगर कोई कैंडिडेट 12वीं के बाद सीएस बनना चाहता है तो तब छात्र को सबसे पहले सीएस फाउंडेशन प्रोग्राम से सीएस बनने की शुरुआत करनी होगी। उसके बाद कैंडिडेट एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम के लिए अपना आवेदन दे सकते हैं। इसके अलावा जो कैंडिडेट ग्रेजुएट है वह डायरेक्ट एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम के लिए अप्लाई कर सकते हैं। उसके बाद सीएस प्रोफेशनल कोर्स किया जा सकता है।

सीएस कोर्स सिलेबस (CS Course Syllabus)

यहां आपको यह बता दें कि सीएस कोर्स करने के लिए उसका सिलेबस इस बात के ऊपर निर्धारित करता है कि कैंडिडेट ने सबसे पहले कौन से प्रोग्राम में एडमिशन लिया है निम्नलिखित हम चरणबद्ध तरीके से सिलेबस के बारे में जानकारी दे रहे हैं-

फाउंडेशन प्रोग्राम सिलेबस (Foundation Program Syllabus)

  • इंग्लिश एंड बिजनेस कम्युनिकेशन (English and business communication)
  • फाइनेंसियल एकाउंटिंग (financial accounting)
  • इकोनॉमिक्स एंड स्टेटिस्टिक्स (economics and statistics)
  • एलिमेंट्स ऑफ बिजनेस लॉज़ एंड मैनेजमेंट (elements of business laws and Management)

एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम सिलेबस (executive program syllabus)  

  • कंपनी अकाउंट्स, कॉस्ट एंड मैनेजमेंट (company accounts, cost and Management)
  • जनरल एंड कमर्शियल लॉज़ (general and commercial laws)
  • टैक्स लॉज़ (tax laws)
  • एकाउंटिंग (accounting)
  • कंपनी लॉ (company law)
  • सिक्योरिटी लॉज़ एंड कॉम्पलिएंसेस (security laws and compliances)
  • इकोनॉमिक लॉज़ (economics laws)

प्रोफेशनल प्रोग्राम सब्जेक्ट्स (professional programme syllabus)

  • मॉड्यूल वन (module one)
  • ड्राफ्टिंग एंड प्लीडिंग्स (drafting and pleadings)
  • कंपनी सेक्रेट्रेरियल प्रैक्टिस (company secretarial practice)
  • मॉड्यूल 2 (module 2)
  • कॉरपोरेट रिस्ट्रक्चरिंग एंड इंसॉल्वेंसी (corporate restructuring and insolvency)
  • फाइनेंशियल ट्रेजरी एंड फॉरेक्स  मैनेजमेंट (financial treasury and Forex management)
  • मॉड्यूल 3 (module 3)
  • एडवांस्ड टैक्स लॉज़ एंड प्रैक्टिस (advanced tax laws and practice)
  • स्ट्रैटेजिक मैनेजमेंट (strategic management)
  • मॉड्यूल 4 (module 4)
  • गवर्नेंस, बिजनेस एथिक्स एंड सस्टेनेबिलिटी (governance, Business ethics and sustainability)

यह भी पढ़ें –

भारत में सीएस कोर्स के लिए कॉलेज (Top CS course College in India)

  • डॉ सीपी ठाकुर कॉलेज, पटना
  • भगवान महावीर कॉलेज ऑफ कंप्यूटर
  • कॉल्विन तालुकदार कॉलेज, लखनऊ
  • अजित दादा पवार डिप्लोमा इंजीनियरिंग कॉलेज, पुणे
  • एडुब्रिज लर्निंग प्राइवेट लिमिटेड, मुंबई
  • इंस्टीट्यूट ऑफ कॉरपोरेट मैनेजमेंट, उदयपुर
  • बिंदेश्वर सिंह कॉलेज, पटना
  • M.O.P. वैश्णव कॉलेज फॉर विमेन, चेन्नई तमिल नाडु
  • Dr. N.G.P. आर्ट्स और साइंस कॉलेज कोयंबटूर, तमिल नाडु
  • तिरुथंगल नादर कॉलेज चेन्नई, तमिल नाडु
  • चेवेलियर टी, टॉमस एलिजाबेथ कॉलेज फॉर विमेन चेन्नई, तमिल नाडु
  • मोहंस इंस्टिट्यूट ऑफ कॉर्पोरेट स्टडीज एर्नाकुलम, केरल
  • इंस्टीट्यूट आफ कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया, नई दिल्ली
  • सेंट अल्फोंसा सीएस कॉलेज कोट्टायम, केरल
  • गवर्नमेंट आर्ट्स कॉलेज नंदनम चेन्नई, तमिल नाडु

सीएस कोर्स फीस (CS course fees)

फाउंडेशन प्रोग्राम की फीस (Foundation Program Fees)

फाउंडेशन प्रोग्राम की फीस लगभग 3,600 रुपए होती है जिस में एडमिशन फीस और ट्यूशन फीस भी होती है।

एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम फीस (Executive Program Fees)

एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम की फीस लगभग 7,000 के आसपास होती है जिसमें ट्यूशन फीस के साथ-साथ फाउंडेशन प्रोग्राम की फीस भी होती है।

प्रोफेशनल प्रोग्राम फीस (Professional Programme Fees)

प्रोफेशनल प्रोग्राम की फीस 5,000 से लेकर 12,000 रुपए तक होती है जिसमें फाउंडेशन और एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम की फीस भी होती है।

सीएस कोर्स करने के बाद कैरियर (Career after CS Course)

जब कैंडिडेट अपना सीएस कोर्स पूरा कर लेता है तो तब वह कॉर्पोरेट दुनिया में काम करने के लिए तैयार हो जाता है जहां पर वह बैंक, स्टॉक एजेंसी, फाइनेंस कंपनी इत्यादि में नौकरी करने के लिए अपना आवेदन दे सकता है। इस प्रकार कंपनी सेक्रेट्री निम्न पदों पर काम कर सकते हैं-

  • लीगल एडवाइजर
  • कॉर्पोरेट पॉलिसी मेकर
  • प्रिंसिपल सेक्रेट्री
  • कॉरपोरेट प्लानर
  • एडमिनिस्ट्रेटिव असिस्टेंट
  • एडमिनिस्ट्रेटिव सेक्रेट्री

सीएस कोर्स के बाद वेतन (Salary after CS Course)

सीएस कोर्स करने के बाद कैंडिडेट को किसी भी बिजनेस कंपनी में नौकरी मिल जाती है जैसे कि प्राइवेट या फिर सरकारी जहां पर उसका काम कंपनी के टैक्स, लीगल गतिविधियों को मैनेज करने के साथ-साथ उनका ध्यान भी रखना होता है। इसीलिए कैंडिडेट का वेतन निर्भर करता है कि उसे किस जगह पर नौकरी मिली है लेकिन कैंडिडेट को शुरू में ही हर महीने 25 से लेकर 40 हजार रुपए तक वेतन मिल जाता है। लेकिन अगर कैंडिडेट की नौकरी किसी बड़ी कंपनी में लगी हो तो तब उसे काफी अच्छा वेतन मिलता है। मौजूदा समय में ऐसे बहुत सारे सीएस है जो सालाना 20 लाख रुपए तक कमा रहे हैं।

निष्कर्ष

इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया सीएस कोर्स क्या है CS Course कैसे करें पूरी जानकारी? What is CS course, how to do CS course complete information in Hindi ,CS course in Hindi full information?इससे संबंधित सारी महत्वपूर्ण बातें बताई-

  • सीएस कोर्स क्या है (what is CS course in Hindi)
  • सीएस कोर्स के लिए योग्यता (CS course Eligibility)
  • सीएस बनने के लिए प्रवेश प्रक्रिया (entrance exam for CS)
  • भारत में सीएस कोर्स के लिए कॉलेज (Top CS course college in India)
  • सीएस कोर्स फीस (CS course fees)
  • सीएस कोर्स करने के बाद कैरियर (career after CS course)
  • सीएस कोर्स के बाद वेतन (salary after CS course)

FAQ

Q: सीएस कोर्स कैसे करें?

Ans: सीएस कोर्स करने के लिए कैंडिडेट को सबसे पहले 12वीं कक्षा पास करनी होगी और उसके बाद उसे फाउंडेशन प्रोग्राम में दाखिला लेना होगा। इस प्रकार जब कैंडिडेट फाउंडेशन प्रोग्राम में सफल हो जाएगा तो उसके बाद उसे फिर एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम में एडमिशन लेना होगा। एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम में पास होने के बाद छात्र को फिर प्रोफेशनल प्रोग्राम पास करना होगा।

Q: सीएस कोर्स की अवधि कितनी होती है?

Ans:अगर कोई कैंडिडेट सीएस कोर्स करना चाहता है तो उसे इसके लिए लगभग 3 साल तक का समय लगता है जिसके अंतर्गत सबसे पहले उसे फाउंडेशन प्रोग्राम करना होता है जिसकी अवधि 1 साल की होती है। फाउंडेशन प्रोग्राम के बाद कैंडिडेट को 1 साल का एग्जीक्यूटिव कोर्स करना होता है और उसके बाद फिर उसे प्रोफेशनल कोर्स को करने में भी 1 साल का ही समय लगता है।

Q: सीएस कोर्स की परीक्षाएं कब कब होती हैं?

Ans: सीएस कोर्स क्योंकि तीन चरणों में होता है इसलिए इस की परीक्षाएं अलग-अलग होती है जैसे कि-

फाउंडेशन कोर्स- इसके लिए साल में दो बार परीक्षाओं का आयोजन करवाया जाता है जो कि दो बार जून और दिसंबर के महीने में कंडक्ट होती है। कैंडिडेट दिसंबर की परीक्षा में भाग लेना चाहते हैं तो तब उन्हें 31 मार्च तक अपना पंजीकरण करवाना पड़ता है। जो कैंडिडेट जून के महीने में परीक्षा देना चाहते हैं उन्हें फिर इसके लिए सितंबर के महीने में रजिस्ट्रेशन करवाना होगा।

एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम परीक्षा– इसके लिए कैंडिडेट को फरवरी के महीने में अपना पंजीकरण करवाना होगा और उसके बाद फिर वह दिसंबर की परीक्षा में भाग ले सकते हैं।

प्रोफेशनल प्रोग्राम परीक्षा- जो कैंडिडेट जून की परीक्षा में भाग लेना चाहते हैं उन्हें 1 साल पहले अगस्त के महीने में अपना पंजीकरण करवाना पड़ेगा।

HindiHelpAdda.Com के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. यहाँ पर हम हिंदी में पैसे कैसे कमाएँ, ब्लॉगिंग, कैरियर ,टेक्नोलॉजी, इन्टरनेट, सोशल मीडिया, टिप्स ट्रिक, फुल फॉर्म और बहुत कुछ जानकारी हिंदी में साझा करते है। आप सभी का HindiHelpAdda.Com से जुड़ने के लिए दिल से धन्यवाद्।।

a

Leave a Comment