Computer Ka Avishkar Kisne Kiya-पूरी जानकारी

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि Computer Ka Avishkar Kisne Kiya ? एवं इससे जुड़ी हुई अन्य दूसरी जानकारी भी। तो हमारे इस आर्टिकल को शुरू से लेकर अंत तक पूरा पढ़ें।

Computer Ka Avishkar Kisne Kiya
Computer Ka Avishkar Kisne Kiya

Computer Ka Avishkar Kisne Kiya ?

कंप्यूटर का आविष्कार कब और किसने किया ?

कंप्यूटर शायद ही कोई ऐसा काम होगा जिंसमे कंप्यूटर का इस्तेमाल नही होता हो । हमारी जिंदगी कंप्यूटर पर इतनी निर्भर हो चुकी है कि आज हम बिना कंप्यूटर के सांस लेने के बारे में भी नही सोचते होंगे ।

दुनिया जिस रफ्तार से आगे बढ़ रही है उसे ये रफ्तार देने में कंप्यूटर ने जो महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन किया है शायद ही किसी और यंत्र ने किया होगा ।

आज कंप्यूटर के माध्यम से हर छोटे से छोटा और बड़े से बड़ा काम चुटकियों में कर लिया जाता है।जब कंप्यूटर जैसे यंत्र उपलब्ध नही थे तब मानव में इतनी कार्यकुशलता और उत्पादकता भी नही थी।

आज अगर कंप्यूटर को हम अपनी ज़िंदगी से बाहर निकाल दे तो ये मानिए की आप पूरी दुनिया की आवश्यकताओ की पूर्ति किसी भी हालत में नही कर सकते है ।

आज आप घर बैठे हमारे लिखे लेख पढ़ पा रहे है ये एक कंप्यूटर के माध्यम से ही सम्भव हो सका है ।

आज हम आपके दिए गए सुझावों पर आपके द्वारा चाही गयी जानकारी उपलब्ध करवा पाने में सक्षम है तो ये कंप्यूटर जैसे यंत्र से ही सम्भव है ।

आज हम इस लेख में कंप्यूटर की विकास यात्रा के बारे में बात करेंगे और कंप्यूटर से जुड़ी हर जानकारी आपको उपलब्ध करवाने का पूरा प्रयास करेंगे ।

दोस्तो कंप्यूटर की खोज कब हुई ये कह पाना मुमकिन नही है क्योकि कंप्यूटर किसी एक यंत्र का काम नही है । यह तो अनेक यंत्रों से मिलकर बना हुआ एक यंत्र है । जिसे कार्य कुशलता के लिए ईजाद किया गया था ।

इसलिए कंप्यूटर में काम आने वाले अलग अलग यंत्रों का आविष्कार अलग अलग समय पर अलग अलग लोगो द्वारा किया गया है ।

इसे जरूर पढ़ें –

आधुनिक कंप्यूटर की खोज किसने की –

दोस्तो चार्ल्स बैवेज को आधुनिक कंप्यूटर का जन्मदाता और पितामह माना जाता है । सन 1822 में ब्रिटिश गणितज्ञ और आविष्कारक चार्ल्स बैवेज ने पहला स्टेम पॉवरड ऑटोमेटिक मैकेनिकल कैलकुलेटर बनाया था । इसे ही आधुनकि कंप्यूटर का पहला फ्रेम वर्क माना जाता है । इसे डिफरेन्स इंजन के नाम से भी जाना जाता है ।

लेकिन दोस्तो ऐसा माना जाता है कि दुनिया का पहला कंप्यूटर चीन में विकसित हुआ था । क्योकि चीन में कम समय मे गणितीय संक्रियाओं को हल करने के लिए अबेकस नाम के एक यंत्र को काम लिया जाता था । इसकी सहायता से जोड़ , बाकी , गुना और भाग जैसी आधारभूत गणितीय संक्रियाओं को हल किया जाता था ।

चार्ल्स बैवेज अपने कंप्यूटर को और ज्यादा विकसित करने के लिए एक नया मॉडल डिजाइन किया था लेकिन  वे  इसे कभी पूरा नही कर पाए । इस मॉडल को उन्होंने एनालिटिकल इंजन नाम दिया था ।  वे इसे और ज्यादा विकसित करने म लिए इसमें इंटीग्रेटेड मेमोरी और पंच कार्ड का उपयोग करने के बारे में सोच रहे थे ।

इस डिजाइन के एक हिस्से को चार्ल्स के बेटे हेनरी बैवेज ने पूरा किया । जो हर प्रकार की गणितीय संक्रियाओं का हल निकालने में सक्षम था ।

पहला विद्युतीय कंप्यूटर –

सन 1945 में जे प्रेसपेर एकर्ट और जॉन मौचली ने मिलकर अमेरिकन सेना के खर्चे पर एक एनिक नाम की एक मशीन को विकसित किया । यह दुनिया का पहला ऐसा कंप्यूटर था जो विद्युत ऊर्जा से संचालित होता था ।

अगर बात करे इसके आकार की तो यह किसी विशालकाय यंत्र जैसा ही था क्योकि यह 1800 स्क्वायर फ़ीट में फैला हुआ था । इसे चलाने के लिए 200 किलोवाट की ऊर्जा की आवश्यकता पड़ती थी ।

दोस्तो अगर इसमें लगे यंत्रों पर एक दृष्टि डाले तो इसमे लगभग 70 हजार रेसिस्टर , 10 हजार कैपेसिटर , और 18 हजार वैक्यूम ट्यूब का इस्तेमाल किया गया था । जिसके कारण यह बहुत भारी हो गया था और इसमे वजन लगभग 50 टन था ।

इस कंप्यूटर को अमेरिकन सेना के द्वारा काम लिया जाता था । इससे मौसम की जानकारी , परमाणु ऊर्जा की गणना , और थर्मल इग्निशन जैसे वैज्ञानिक फैक्ट्स की गणना करने में उपयोग किया जाता है ।

प्रथम प्रोग्रामिंग कंप्यूटर –

दुनिया का पहला प्रोग्रामिंग कंप्यूटर बनाने का श्रेय जर्मनी के सिविल इंजीनियर कोनराड जूस को जाता है । इन्होंने ही सन 1938 में पहली बार फ्रीली प्रोग्रामिंग बाइनरी मैकेनिकल कंप्यूटर का निर्माण किया था । और इन्होंने इनका नाम जेड 1 रखा था । इस कंप्यूटर को प्रोग्राम करने के लिए पंचड टेप का उपयोग किया जाता था ।

दुनिया का पहला व्यवसायिक कंप्यूटर –

दुनिया के पहले व्यवसायिक कंप्यूटर का नाम अटानासॉफ् बेरी कंप्यूटर था । इसे 1937 में बनाया गया था । इसे दो वैज्ञानिकों वी अटानासॉफ् और क्लिफोर्ड बेरी ने मिलकर बनाया था ।

सन 1975 में पहला पर्सनल कंप्यूटर बना लिया गया था । इसे ही पी सी कहा जाता था । इस कंप्यूटर को ईडी रोबर्ट ने बनाया था ।

अगर बात करे पहले डेस्कटॉप कंप्यूटर की तो यह 1964 में एक इटालियन कंपनी ओलिवेट्टी द्वारा बनाया गया था । इसकी कीमत उस समय 3200 डॉलर रखी गयी थी जो आज के लगभग 2 लाख रुपये के बराबर है ।

दुनिया का पहला लैपटॉप –

लैपटॉप का आविष्कार सन 1981 में किया गया था । यह कंप्यूटर की दुनिया मे किया गया सबसे क्रांतिकारी प्रयास माना गया क्योकि इससे पहले बनने वाले कंप्यूटर  वजन में बहुत ही भारी होते थे । साथ ही साथ वे बहुत ज्यादा जगह भी घेरते थे । लेकिन लैपटॉप के आविष्कार ने हर प्रकार की समस्या को सुलझा दिया । पहली बार बनाया गया लैपटॉप आज के लैपटॉप से बिल्कुल ही अलग था ।

इसमे एक छोटी स्क्रीन का प्रयोग किया गया था और इसमें प्री इन्सटाल्ड प्रोग्रामिंग का प्रयोग किया गया था । उस समय इस लैपटॉप की कीमत 1500 डॉलर थी । और उस जमाने मे इसको बनाने वाली कम्पनी की सेल 10 हजार लैपटॉप हर महीना थी जो उस समय के अनुसार बहुत ही ज्यादा थी । इस पहले लैपटॉप का नाम ओसबोर्न 1 रखा गया था ।

भारत मे पहला कंप्यूटर –

भारत मे पहला कंप्यूटर सन 1952 में कोलकाता के भारतीय विज्ञान संस्थान में लाया गया था । इसके बाद एक कंप्यूटर बेंगलूर में भी लगाया गया था । ये कंप्यूटर एनालॉग कंप्यूटर थे । लेकिन भारत मे कंप्यूटर युग का आरंभ सन 1956 में उस समय हुआ जब कोलकाता के भारतीय विज्ञान संस्थान में एच ई सी – 2 एम नाम का इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर लगाया गया । इसकी कीमत उस समय 10 लाख रुपये थी । यह आकर में बहुत बड़ा कंप्यूटर था । इसका आकार 10 फ़ीट लंबा , 7 फ़ीट चौड़ा , और 6 फ़ीट ऊंचा था ।

अगर भारत मे बने पहले कंप्यूटर की बात करे तो इसे सन 1966 में बनाया गया था  । ईसका निर्माण भारतीय सांखियिकी संस्थान और जाधवपुर यूनिवर्सिटी ने मिलकर किया था । इस कंप्यूटर का नाम आई एस आई जे यु रखा गया था ।

भारत में बना पहला सुपर कंप्यूटर –

भारत मे पहला सुपर कंप्यूटर सन 1991 में  बनाया गया था । जिसका नाम परम 8000 था । इसकी रेटिंग 1 गीगाफ्लोफ थी । इस कंप्यूटर को सी – डी ए सी ने बनाया था । इस कंप्यूटर को लगातार अपडेट किया गया । सन 1998 में परम 10000 का निर्माण किया गया ।

परम 8000 सुपर कंप्यूटर पूर्णतः स्वदेशी कंप्यूटर था क्योकि इसमें काम आने वाले अधिकतर पार्ट्स भारतीय बाजार से ही खरीदे गए थे ।

यह सुपर कंप्यूटर विदेशो से आयात किये जाने वाले सुपर कंप्यूटर से भी ज्यादा पावरफुल था । यह लांग रेंज वेदर फोरकास्टिंग , रिमोट सेंसिंग , ड्रग डिजाइन , मॉलिक्यूलर मॉडलिंग जैसे अत्याधुनिक काम बहुत ही आसानी से कर सकता था ।

कंप्यूटर बनाने वाली कुछ विश्वप्रसिद्ध कम्पनियां –

1. कमोडोर – इसने अपना पहला कंप्यूटर सन 1977 में ईजाद किया था ।

2 . कॉम्पैक – इस कम्पनी का पहला कंप्यूटर 1983 में बाजार में आया ।

3 . डैल – यह कंप्यूटर बनाने वाली विश्वप्रसिद्ध कम्पनी है । इस कम्पनी ने अपना पहला कंप्यूटर 1985 में उतारा था जिसका नाम टर्बो पी सी रखा गया ।

4 . हेवलेट पैकर्ड – इसे संछिप्त में एच पी के नाम से भी जाना जाता है । कम्पनी का पहला कंप्यूटर सन 1966 में आया ।

5 . एन ई सी – सन 1985 में  अपना पहला कंप्यूटर ईजाद किया ।

6 . तोशिबा – यह जापानी कम्पनी है । यह अपना पहला कंप्यूटर सन 1954 में बाजार में लेकर आई थी ।

निष्कर्ष –

दोस्तो हमारे द्वारा दी गई कंप्यूटर की जानकारी आपके बहुत ही काम आने वाली है । हमने इसमें कंप्यूटर से जुड़ी हर जानकारी को इसमें समाहित करने का प्रयास किया है । फिर भी आपको किसी और बात का ध्यान आता है और हमारे आगे आने वाले लेखों को हम कैसे और ज्यादा आपके लिए उपयोगी बना सकते है , तो आपके सुझाव सादर आमंत्रित है ।

इस लेख को हमने इस प्रकार से तैयार किया है कि आपको किसी और वेबसाइट पर जानकर कंप्यूटर से जुड़ी जानकारी खोजने की आवश्यकता ही नही होगी । जिससे आपका बहुत सा समय बच जाएगा ।

दोस्तो इस लेख को तैयार करने में पूरी सावधानी रखी गई है और आपके मन मे आने वाले लगभग हर प्रश्न का जवाब भी इसमें समाहित करने का प्रयास किया है । फिर भी आपके मन मे कोई शंका हो तो आप हमें इसे बारे में अवगत करा सकते है ।आपको पसंद आया हो तो इसे आप अपने मित्र जन और परिजन के साथ आवश्यक अदा करें और हो सके तो आप इसे अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी साझा करें।

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने आपको बताया कि Computer Ka Avishkar Kisne Kiya ? एवं इससे जुड़ी हुई अन्य जानकारी भी तो हमको उम्मीद है की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya ? पर ये आर्टिकल आपको जरूर पसंद आएगा।

HindiHelpAdda.Com के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. यहाँ पर हम हिंदी में पैसे कैसे कमाएँ, ब्लॉगिंग, कैरियर ,टेक्नोलॉजी, इन्टरनेट, सोशल मीडिया, टिप्स ट्रिक, फुल फॉर्म और बहुत कुछ जानकारी हिंदी में साझा करते है। आप सभी का HindiHelpAdda.Com से जुड़ने के लिए दिल से धन्यवाद्।।

a

Leave a Comment