बीएसटीसी कोर्स (BSTC Course) कैसे करें?

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताएंगे बीएसटीसी कोर्स (BSTC Course) कैसे करें? How to do BSTC in Hindi? यह कोर्स वह कंडीडेट करते हैं जो 12वीं कक्षा की पढ़ाई पूरा करने के बाद टीचर बनने के इच्छुक होते हैं और यह चाहते हैं कि वह सरकारी टीचर बन सकें तो यह कोर्स उन सभी उम्मीदवारों के लिए बेहद उपयुक्त रहता है।

इस लेख में हम आपको जानकारी देंगे कि BSTC Course करने की पूरी प्रक्रिया क्या है जिससे कि इस क्षेत्र में आप अपना कैरियर बना सकें। बीएसटीसी कोर्स करके टीचर बनने की पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए इस पोस्ट को सारा जरूर पढ़ें।

बीएसटीसी कोर्स (BSTC Course) कैसे करें
बीएसटीसी कोर्स (BSTC Course) कैसे करें

बीएसटीसी क्या है (What is BSTC in Hindi)

जिस प्रकार से D.EL.ED एक टीचर बनने का कोर्स है उसी तरह से बीएसटीसी कोर्स है और इसके नाम से हर इंसान बहुत अच्छी तरह से परिचित भी है। तो D.EL.ED का ही नया नाम BSTC है जिस का फुल फॉर्म बेसिक स्कूल टीचिंग सर्टिफिकेट (basic school teaching certificate) है। यह 2 साल का कोर्स है जिसके अंतर्गत कैंडिडेट को विद्यालय शिक्षण का प्रशिक्षण दिया जाता है। जब यह कोर्स पूरा हो जाता है तो उसके बाद कैंडिडेट एक शिक्षक के रूप में प्राइमरी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को पढ़ाने की नौकरी कर सकता है। यदि आप बीएसटीसी के बाद किसी सरकारी स्कूल में छात्रों को शिक्षा देना चाहते हैं तो तब आपको रीट एग्जाम (Reet Exam) में शामिल होना होगा और उसमें सफल होने के बाद आप सरकारी शिक्षक के रूप में भी काम कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें –

बीएसटीसी कोर्स के लिए योग्यता (BSTC Course Eligibility)

बीएसटीसी कोर्स को करने के लिए एक कैंडिडेट में जो योग्यताएं होनी चाहिए वह इस प्रकार हैं-

  • छात्र का किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं कक्षा पास होना अनिवार्य है।
  • विद्यार्थी का 12वीं कक्षा में कम से कम 50% अंक प्राप्त करना बहुत ही आवश्यक है।
  • ओबीसी, एससी और एसटी वर्ग से संबंध रखने वाले उम्मीदवार को 45% अंक प्राप्त करना अनिवार्य है।
  • कैंडिडेट की आयु 28 वर्ष से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।

बीएसटीसी परीक्षा (BSTC Exam)

जो इच्छुक उम्मीदवार बीएसटीसी कोर्स करना चाहते हैं उन्हें इसके लिए बीएसटीसी कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा में भाग लेकर उसमें पास होना होगा और यह प्रवेश परीक्षा हमारे देश भारत में प्रतिवर्ष कंडक्ट होती है। इस एग्जाम में मेंटल एबिलिटी, जनरल अवेयरनेस ऑफ राजस्थान, इंग्लिश, हिंदी, संस्कृत, टीचिंग एप्टीट्यूड जैसे विषयों पर आधारित प्रश्न हल करने होते हैं जिसके लिए 200 अंक निर्धारित किए गए हैं। अगर कैंडिडेट इस एग्जाम में पास नहीं हो पाता है तो तब उसको बीएसटीसी कोर्स के लिए अयोग्य माना जाता है और दाखिला नहीं मिलता। \

यह भी पढ़ें –

बीएसटीसी कोर्स इंस्टीट्यूट सूची (BSTC Course Institute list)

• भगवान महावीर टीचर ट्रेनिंग कॉलेज, राजस्थान (Bhagwan mahaveer teacher training college, Rajasthan)

• दीप इंटरनेशनल टीचर ट्रेनिंग स्कूल, अलवर राजस्थान (Deep International Teachers Training School, Alwar Rajasthan)

• डिस्ट्रिक्ट इंस्टीट्यूट फॉर एजुकेशन एंड ट्रेनिंग, उदयपुर राजस्थान(District institute for education and training, Udaipur Rajasthan)

• डिस्ट्रिक्ट इंस्टीट्यूट फॉर एजुकेशन, भारतपुर राजस्थान (District institute for education, Bharatpur

• डिस्ट्रिक्ट इंस्टीट्यूट फॉर एजुकेशन, अलवर राजस्थान (District institute for education, Alwar Rajasthan)

• संस्कार इंटरनेशनल महिला कॉलेज, हनुमानगढ़ (Sanskar International mahila College, Hanumangarh)

• वीणा मेमोरियल कॉलेज ऑफ एजुकेशन, करौली राजस्थान (Veena memorial College of Education, Karauli Rajasthan)

• दामिनी इन्फोटेक, कुरुक्षेत्र (Damini Infotech, Kurukshetra)

• श्री लाल बहादुर शास्त्री रिसर्च एंड ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट, जोधपुर (Shri Lal Bahadur Shastri research and Training Institute, Jodhpur)

• डिस्ट्रिक्ट इंस्टिट्यूट ऑफ़ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग, कोटा राजस्थान(District institute for education and training, Kota Rajasthan)

बीएसटीसी कोर्स सिलेबस (BSTC Course Syllabus)

जब कैंडिडेट बीएसटीसी कोर्स में दाखिला ले लेता है तो उसके बाद उसे इसमें छोटे बच्चों को शिक्षा देने के लिए तैयार करवाया जाता है जिससे कि वह प्राइमरी स्कूल के बच्चों को श्रेष्ठ तरीके से पढ़ा सकें। ‌सारा पाठ्यक्रम बच्चों को पढ़ाने के ऊपर ही आधारित होता है जैसे कि –

बीएसटीसी कोर्स फर्स्ट ईयर (BSTC Course 1st Year)

• प्रिंसिपल एंड एजुकेशनल एंड एजुकेशन इन मॉडर्न इंडिया (Principal and educational and Education in modern India)

• एजुकेशनल साइकोलॉजी (Educational psychology)

• हिंदी टीचिंग (Hindi teaching)

• इंग्लिश टीचिंग (English teaching)

• मैथ्स टीचिंग (Maths teaching)

• फिजिकल एंड एनवायरमेंटल टीचिंग (Physical and environmental teaching)

(ए) सोशल साइंस (Social science)

(बी) साइंस (Science)

• हेल्थ एंड फिजिकल एजुकेशन एंड टीचिंग (Health and physical educational teaching)

• आर्ट्स एजुकेशन टीचिंग (Arts education teaching)

बीएसटीसी कोर्स सेकंड ईयर (BSTC Course 2nd Year)

• स्कूल ऑर्गेनाइजेशन एंड एजुकेशनल इनोवेशन (School organisation and educational innovation)

• हिंदी टीचिंग (Hindi teaching)

• इंग्लिश टीचिंग (English teaching)

• थर्ड लैंग्वेज टीचिंग (संस्कृत) (Third language teaching (Sanskrit)

• मैथमेटिकल टीचिंग (Mathematical teaching)

• सोशल साइंस टीचिंग (Social science teaching)

• साइंस टीचिंग (Science teaching)

• एसयूपीडब्ल्यू (SUPW)

यह भी पढ़ें –रेडियोग्राफिक कोर्स क्या है RadioGraphic Course कैसे करें ?

किताबें और अध्ययन सामग्री (Books and Study Materials)

बीएसटीसी कोर्स के अधीन कैंडिडेट को अलग-अलग किताबों के द्वारा से पढ़ाई कराई जाती है जैसे कि-

फर्स्ट ईयर बुक्स (First Year Books)

1. सूचना एवं संप्रेषण तकनीकी

2. कला शिक्षण

3. पर्यावरण अध्ययन शिक्षण

4. गणित शिक्षण

5. इंग्लिश लैंग्वेज प्रोफिशिएंसी एंड पेडगॉजी

6. हिंदी भाषा शिक्षण और प्रवीणता

7. भाषा, संज्ञान और समाज

8. भारतीय समाज और शिक्षा

9. शिक्षा के उद्देश्य, ज्ञान और पाठ्यक्रम

10. बच्चे और बचपन

सेकंड ईयर बुक्स (Second Year Book)s

1. विज्ञान शिक्षण

2. स्वास्थ्य एवं शारीरिक शिक्षा

3. तृतीय भाषा शिक्षण (संस्कृत, उर्दू, गुजराती)

4. गणित शिक्षण

5. इंग्लिश लैंग्वेज प्रोफिशिएंसी एंड पेडगॉजी

6. हिंदी भाषा शिक्षण और प्रवीणता

7. आधुनिक विश्व में विद्यालयी शिक्षा

8. विद्यालय संस्कृति प्रबंधन और शिक्षक

9. बच्चे और सीखना

बीएसटीसी कोर्स की फीस (BSTC Course Fees)

बीएसटीसी कोर्स के लिए कैंडिडेट को 2 साल का कोर्स करवाया जाता है और इसीलिए हर साल की फीस भी उसे अलग अलग देनी होती है। ‌फर्स्ट ईयर में कैंडिडेट को लगभग 16,250 रुपए की फीस देनी पड़ती है और इसी तरह से जब वह सेकंड ईयर में पहुंच जाते हैं तो तब फिर से उन्हें 16,250 रुपए की फीस देनी होगी।

यह भी पढ़ें –पैरामेडिकल कोर्स क्या है Paramedical course कैसे करें पूरी जानकारी

बीएसटीसी कोर्स के बाद सैलरी (Salary after BSTC Course)

एक बीएसटीसी टीचर को हर महीने लगभग 23,700 रुपए तक का वेतन मिल जाता है जो कि उसके प्रोबेशन के दौरान का वेतन होता है और जैसे ही प्रोबेशन का समय खत्म हो जाता है तो उसके बाद फिर कैंडिडेट को प्रतिमाह 36,000 रुपए तक सैलरी पैकेज मिलता है।

निष्कर्ष

इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको जानकारी दी कि बीएसटीसी कोर्स (BSTC Course) कैसे करें? How to do BSTC in Hindi?  इससे संबंधित सभी महत्वपूर्ण बातें को विस्तार पूर्वक बताया जैसे कि-

  • बीएसटीसी क्या है /what is BSTC in hindi
  • बीएसटीसी कोर्स के लिए योग्यता (BSTC course eligibility)
  • बीएसटीसी परीक्षा (BSTC Exam)
  • बीएसटीसी कोर्स इंस्टीट्यूट सूची (BSTC course Institute list)
  • बीएसटीसी कोर्स सिलेबस (BSTC course syllabus)
  • किताबें और अध्ययन सामग्री (Books and study material)
  • बीएसटीसी कोर्स की फीस /BSTC course fees
  • बीएसटीसी कोर्स के बाद सैलरी /salary after BSTC course  

FAQ

Q: बीएसटीसी कोर्स कैसे करें?

Ans: बीएसटीसी कोर्स करने के लिए सबसे पहले आपको बारहवीं कक्षा तक पढ़ाई करनी होगी और उसके बाद बीएसटीसी प्रवेश परीक्षा में भाग लेना होगा। इस परीक्षा में यदि आप सफल हो जाएंगे तो तब आपको कोर्स में दाखिला मिल जाएगा। ‌

Q: बीएसटीसी कोर्स करने के बाद कैरियर संभावनाएं क्या है?

Ans: जो कैंडिडेट बीएसटीसी कोर्स कर लेते हैं उनके सामने कैरियर की कई संभावनाएं होती हैं जैसे कि वह किसी निजी या फिर सरकारी स्कूल में प्राइमरी स्तर के बच्चों को शिक्षा दे सकते हैं। ‌ इसके साथ साथ अगर वह चाहें तो किसी कोचिंग सेंटर में भी पढ़ाने की नौकरी करने के अलावा अपना स्वयं का भी ट्यूशन सेंटर खोल सकते हैं।

Q: बीएसटीसी कोर्स क्या टीचिंग के लिए उचित है?

Ans: जी हां यह कोर्स उन लोगों के लिए बेहद उचित है जो प्राइमरी लेवल के बच्चों को पढ़ाने के इच्छुक होते हैं। इसीलिए इस कोर्स को जब कोई कैंडिडेट करता है तो तब उसे विशेषतौर पर बच्चों को शिक्षा देने के बारे में ट्रेनिंग दी जाती है।

HindiHelpAdda.Com के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. यहाँ पर हम हिंदी में पैसे कैसे कमाएँ, ब्लॉगिंग, कैरियर ,टेक्नोलॉजी, इन्टरनेट, सोशल मीडिया, टिप्स ट्रिक, फुल फॉर्म और बहुत कुछ जानकारी हिंदी में साझा करते है। आप सभी का HindiHelpAdda.Com से जुड़ने के लिए दिल से धन्यवाद्।।

a