Analytical Engine का आविष्कार किसने किया ?

Analytical Engine का आविष्कार किसने किया

आज के समय मे हम जो कम्प्यूटर का इस्तेमाल करते है वो काफी अच्छी स्पीड मे अपना कार्य करता है ओर वही यह कम्प्यूटर काफी तेजी से कार्य करता है। क्या आप इस बात को जानते है की कम्प्यूटर की वास्तविक शुरूआत इसी Analytical Engine से मानी जाती है। क्या आपको पता है की इस Analytical Engine का सर्वप्रथम उपयोग कहा किया गया था एवं इसका उपयोग क्यों किया गया था ?

Analytical Engine का आविष्कार किसने किया ? अगर आप इस बात को नही जानते तो इस लेख को अंत तक पूरा पढे ताकि आपको इसके बारे मे पूरी जानकारी मिल सके। इस लेख मे आपको इसके बारे मे पूरी जानकारी दी जायेगी। 

अनालाईटिकल इंजन क्या है ? (What is Analytical Engine)  

आप इस बात को शायद ही जानते होंगे की कम्प्यूटर की वास्वित शुरूआत कहा से हुई थी, तो आपको बता दे की कम्प्यूटर की सर्वप्रथम शुरूआत Analytical Engine से ही मानी जाती है। आप अभी इस बात से अंजान ही होंगे की कम्प्यूटर की वास्तिव शुरूआत कहा से हुई थी। सर्वप्रथम कम्प्यूटर के समरूप मे एक मशीन विकसित की गई जो की विभेदक समीकरणों को करने मे सक्षम थी। जब सर्वप्रथम इस मशीन को विकसित की गई तो यह भाप से चलती थी या यू कहें की भाप के बिना इसे चलाना मुश्किल था तो यह बात सही ही है। इस मशीन का आकार काफी बडा था जिससे यह डाटा को स्टोर करने व डाटा को प्रिंट करने मे सक्षम थी। आपको शायद इस बात का पता नही होगी की चार्लबेज ने इस मशीन पर तकरीबन 10 वर्षो तक काम करने के बाद कम्प्यूटर बनाने के लिए प्रेरित हुए थे। बेबेज ने जिस मशीन पर पूर्व मे तकरीबन 10 वर्षो तक कार्य किया वह Analytical Engine के नाम से जाना जाने लगा। आपको यह बात भी जाननी आवश्यक है की चार्ल्स बेबेज के सहायक अगस्ता एडिए किंग ( Augusta Ada King )  ने इस मशीन को बनाने व चलाने मे काफी मदद की थी। सहायक Augusta Ada King के नाम पर उनके सहयोग मे अमेरिका के रक्षा विभाग ने एक नई प्रोग्रामिंग लैंग्वेज 1980 मे बनाई जिसका नाम उन्होने ADA Programming Language रखा। 

Analytical Engine का आविष्कार किसने किया
Analytical Engine का आविष्कार किसने किया

Analytical Engine का आविष्कार किसने किया ( Who founded Analytical Engine ) 

दूनिया को पहले कम्प्यूटर की भाषा सिखाने वाले चार्ल्स बेबेज ने इस इंजन का आविष्कार किया है। चार्लस बेबेज ( Charles babbage )  को ही Analytical Engine का आविष्कारक माना जाता है। चार्ल्स बेबेज ने सर्वप्रथम दो प्रकार की मशीनों का निर्माण किया था जिसमे यह एक भी थी। यह इंजन कम्प्यूटर की प्रथम के रूप मे जानी जाती है जो की चार्ल्स बेबेज द्वारा बनाया गया था। इस इंजन को बनाने के दो प्रमुख फिचर है जो की पूर्ण रूप से मशीनों पर आधारित थी और पूरी तरह से डिजिटल डिज़ाइन थी। Analytical Engine, आमतौर पर पहला कंप्यूटर माना जाता है, जिसे 19 वीं शताब्दी में अंग्रेजी आविष्कार चार्ल्स बैबेज द्वारा डिज़ाइन और आंशिक रूप से बनाया गया था (उन्होंने 1871 में अपनी मृत्यु तक इस पर काम किया था)। Different Engine पर काम करते हुए, ब्रिटिश सरकार द्वारा कमीशन की गई एक सरल गणना मशीन, बैबेज ने इसे सुधारने के तरीकों की कल्पना करना चालू कर दिया था। मुख्य रूप से उन्होंने इसके संचालन को सामान्य बनाने के बारे में सोचा ताकि यह अन्य प्रकारों की गणना कर सके। 

अनालाईटिकल इंजन के कार्य ( Works of Analytical Engine ) 

Analytical Engine के काफी कार्य थे जो उस समय के तत्कालीन समय मे काफी आधुनिक कार्य करते थे

  • Analytical Engine का पहला कार्य था शुद्ध गणना करना और इनपुट व आउटपूट को प्रोसेस।
  • Analytical Engine एक कम्प्यूटर की तरह ही कार्य करती थी जिसे कम्प्यूटर के पूर्वज भी कह सकते है। 
  • Analytical Engine डाटा को स्टोर भी करता एवं उन डाटा को जरूरत होने पर प्रिंट भी करता जिससे की वह काफी कुछ कार्य आसान कर देता था। 
  • उस समय बिजली का काफी अभाव था इसलिए यह Analytical Engine उस समय भाप से चलने वाली मशीन थी। 
  • यह कम्पयूटर की वह पीढी थी जिसे 0 पीढी कहा जाता है। 

चार्लस बेबेज के बारे मे सामान्य जानकारी ( Some information about Charles Babbage ) 

चार्ल्स बेबेज एक महान अंग्रेजी के बहुश्रुत थे इसके साथ वे गणितिज्ञ, दार्शनिक चिंतक, साथ ही यात्रिकी इंजीनियर थे। चार्ल्स बेबेज कम्प्यूटर के डिज़ाइनर थे। कम्प्यूटर के निर्माता व एनालईटिंग इंजन के निर्माता चार्ल्स बेबेज का जन्म 1791 मे हुआ था। चार्ल्स बेबेज को कम्प्यूटर के पिता के रूप मे जाना जाता है। पूर्व मे चार्ल्स बेबेज द्वारा एक यांत्रिकी मशीन का आविष्कार किया गया था जिसे वर्तमान मे लंदन के साइंस म्यूजियम में रखा गया है। चार्ल्स बेबेज ने अक्टूबर 1810 म ट्रिनिज काॅलेज, कैम्ब्रिज मे दाख़िला लिया जहा से उन्होने अपनी स्नातक की पढाई की। उन्होने स्नातक पूरी होने के बाद, उन्होंने कई असफल पदों के लिए आवेदन किया और कैरियर के रास्ते में बहुत कम था। 1816 में वे हाईलेबरी कॉलेज में एक शिक्षण नौकरी के लिए एक उम्मीदवार थेय उनके पास जेम्स आईवरी और जॉन प्लेफेयर से सिफ़ारिशें थीं, लेकिन हेनरी वाल्टर को हार गए 1819 में, बैबेज और हर्शेल ने पेरिस और आर्सायकल की सोसायटी का दौरा किया, जो प्रमुख फ़्रेंच गणितज्ञों और भौतिकविदों से मुलाकात कर रहा था। उस वर्ष Babej Adinbarg University में प्रोफेसर होने के लिए आवेदन किया, पियरे Siman Laiplesh की सिफारिश के साथ पद Willam Wallens के पास गया। चार्ल्स बेबेज की वैवाहिक स्थिति की बात करे तो उन्होने जार्जियाना व्हाटमोर ( Jargiya Whatmor )  नामक लडकी को अपना जीनवसाथी बनाया। 

चार्ल्स बेबेज का जन्म लंदन के एक बैंकर ( Banker ) परिवार मे हुआ था। उन्होने अपने जीवन मे कई प्रयास किये जिनमे उनको किसी मे सफलता नही मिली तो किसी मे वै सफलता का परचम फहराने मे सफल भी हुए। चार्ल्स बेबेज शुरू से ही गणित विषय मे काफी उत्कृष्ट थे, वे घर पर टयूश्न भी पडाते थे जिस दौरान वे काफी बिमार भी रहते थे। जन्म से ही चार्ल्स बेबेज काफी प्रतिभावान थे। वे अपने जीवन मे दो क्लबों से जुडे थे जिसमे एक घोस्ट क्लब ( Ghost Club )  एवं दूसरा पैरानाॅर्मल क्लब फीनोमीना ( Peranorlal Club Finomina )  का भी हिस्सा थे। 

निष्कर्ष ( Conclusion ) 

अनालाईटिंग इंजन का आविष्कार सर्वप्रथम चार्ल्स बेबेज ने किया था जिनका जन्म 1791 मे एक बैंकर परिवार मे हुआ था। दूनिया को पहले कम्प्यूटर की भाषा सिखाने वाले चार्ल्स बेबेज ने इस इंजन का आविष्कार किया है। चार्ल्स बेबेज ( Charles babbage )  को ही Analytical Engine का आविष्कारक माना जाता है। चार्ल्स बेबेज ने सर्वप्रथम दो प्रकार की मशीनों का निर्माण किया था जिसमे यह एक भी थी। यह इंजन कम्प्यूटर की प्रथम के रूप मे जानी जाती है जो की चार्ल्स बेबेज द्वारा बनाया गया था। इस इंजन को बनाने के दो प्रमुख फिचर है जो की पूर्ण रूप से मशीनों पर आधारित थी और पूरी तरह से डिजिटल डिज़ाइन थी। Analytical Engine, आमतौर पर पहला कंप्यूटर माना जाता है, जिसे 19 वीं शताब्दी में अंग्रेजी आविष्कार चार्ल्स बैबेज द्वारा डिज़ाइन और आंशिक रूप से बनाया गया था (उन्होंने 1871 में अपनी मृत्यु तक इस पर काम किया था)। चार्ल्स बेबेज के सहायक अगस्ता एडिए किंग ( Augusta Ada King )  ने इस मशीन को बनाने व चलाने मे काफी मदद की थी। सहायक Augusta Ada King के नाम पर उनके सहयोग मे अमेरिका के रक्षा विभाग ने एक नई प्रोग्रामिंग लैंग्वेज 1980 मे बनाई जिसका नाम उन्होने ADA Programming Language रखा। उम्मीद करते है आपको यह लेख पसंद आया होगा। 

FAQ

प्रश्न 1 – Analytical Engine का जनक किसे माना जाता है ?

उत्तर – Analytical Engine का जनक Charles Babbage  को माना जाता है जिनका जन्म एक बैंकर परिवार मे हुआ था। वे बचपन से ही काफी मेधावी थे। वे बचपन मे सामान्य परिवारीक स्थिति मे थे वे अपनी आजीविका चलाने के लिए घर पर टयूश्न भी पढ़ाते थे। 

प्रश्न 2 – Analytical Engine की खोज कब की गई ?

उत्तर – Analytical Engine की सर्वप्रथम खोज 1810 मे चार्ल्स बेबेज द्वारा की गई, चार्ल्स बेबेज शुरू से ही गणित विषय मे काफी उत्कृष्ट थे, वे घर पर टयूश्न भी पढाते थे जिस दौरान वे काफी बिमार भी रहते थे। जन्म से ही चार्ल्स बेबेज काफी प्रतिभावान थे।

प्रश्न 3 – अमेरिका रक्षा विभाग द्वारा 1980 में किस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का निर्माण किया गया ?

उत्तर – चार्ल्स बेबेज के सहायक अगस्ता एडिए किंग ( Augusta Ada King )  ने इस मशीन को बनाने व चलाने मे काफी मदद की थी। सहायक Augusta Ada King के नाम पर उनके सहयोग मे अमेरिका के रक्षा विभाग ने एक नई प्रोग्रामिंग लैंग्वेज 1980 मे बनाई जिसका नाम उन्होने ADA Programming Language रखा। 

प्रश्न 4 – Analytical Engine मे कितने प्रकार के कार्ड थे ?

उत्तर – मे मुख्यतः 3 प्रकार के कार्ड लगे होते थे जिनमे से चार्ल्स बेबेज ने 2 प्रकार के प्रोग्राम डिज़ाइन किया थ जिसकी समय अवधि 1837 से 1840 के मध्य थी। 

प्रश्न 5 – Analytical Engine क्या है ?

उत्तर – दूनिया को पहले कम्प्यूटर की भाषा सिखाने वाले चार्ल्स बेबेज ने इस इंजन का आविष्कार किया है। चार्ल्स बेबेज ( Charles babbage )  को ही Analytical Engine का आविष्कारक माना जाता है। चार्ल्स बेबेज ने सर्वप्रथम दो प्रकार की मशीनों का निर्माण किया था जिसमे यह एक भी थी। यह इंजन कम्प्यूटर की प्रथम के रूप मे जानी जाती है जो की चार्ल्स बेबेज द्वारा बनाया गया था। इस इंजन को बनाने के दो प्रमुख फिचर है जो की पूर्ण रूप से मशीनों पर आधारित थी और पूरी तरह से डिजिटल डिज़ाइन थी।

HindiHelpAdda.Com के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. यहाँ पर हम हिंदी में पैसे कैसे कमाएँ, ब्लॉगिंग, कैरियर ,टेक्नोलॉजी, इन्टरनेट, सोशल मीडिया, टिप्स ट्रिक, फुल फॉर्म और बहुत कुछ जानकारी हिंदी में साझा करते है। आप सभी का HindiHelpAdda.Com से जुड़ने के लिए दिल से धन्यवाद्।।

a

Leave a Comment