अगरबत्ती का आविष्कार किसने किया ? और कब

भगवान की पूजा मे अगरबत्ती का उपयोग काफी ज्यादा होता है ऐसे मे हर घर मे अलग – अलग प्रकार की अगरबत्ती आपको देखने को मिल जाती है। कोई भी त्यौहार हो या ना हो भगवान की आरती के लिए अगरबत्ती की आवश्यकता हो हमेशा पडती है। आपको शायद यह बात बडी दिलचस्प लगेगी की अगरबत्ती को सबसे ज्यादा निर्यात भारत मे किया जाता है और भारत मे इसका उपयोग काफी ज्यादा मात्रा मे होता है। क्या आपको पता है की पहली बार अगरबत्ती का उपयोग कब और कैसे हुआ था, अगर आपको नही पता हो आपको इस लेख मे इसके बारे मे जानकारी दी जा रही है। अतः आप अगरबत्ती का आविष्कार किसने किया ? और कब इस लेख को अंत तक पढे़।

अगरबत्ती क्या है ? ( What is incense sticks? ) 

सामान्य अगरबत्ती एक छडी होती है जिस पर कई प्रकार के मिश्रण किये हुए लेप लगे होते है । सामान्यतः अगरबत्ती का उपयोग भगवान की पूजा पाठ करने के लिए उपयोग मे लिया जाता है एवं यह भी हो सकता है इसके अलावा भी इसके और भी कई लाभ होते है जिसके बारे मे आगे बताया गया है। 

  • अगरबत्ती का उपयोग घर मे भगवान की पूजा पाठ मे काम आती है वही अगरबत्ती से घर मे अच्छी सुगंध फैलती है एव इससे घर मे शांति का माहौल बन जाता है। 
  • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार देखा जाएं तो अगरबत्ती भगवान के धूप मे काम आती तो है ही वही इससे घर से नकारात्मक शक्ति दूर भाग जाती है। 
  • अगरबत्ती की एक धार्मिक मान्यता तो यह भी है की अगर आपको किसी भी प्रकार कर तनाव है तो आप अपने घर मे अच्छे सुगंध वाली अगरबत्ती लगाये जिससे आपके शरीर मे से तनाव दूर हो जाता है ओर मन को एक सुकून मिलता है। 
  • अगरबत्ती की एक धार्मिक मान्यता तो यह भी है की अगरबत्ती से यह देव शक्तियों को अपनी और आकर्षित करती है जिससे इसके आसपास देवताओं का वास माना जाता है। 
अगरबत्ती का आविष्कार किसने किया
अगरबत्ती का आविष्कार किसने किया

अगरबत्ती की खोज के स्त्रोत ( Sources of Agarbatti ) 

अगरबत्ती का उपयोग सर्वप्रर्थम चीन मे भिक्षुओं द्वारा किया गया था उस समय चीन कोई देश न होकर एक संस्कृति थी। भारत अगरबत्ती बनाने वाला पहला देश है। प्राचीन समय मे अगरबत्ती का उपयोग देवताओं को मनाने के साथ कई अलग – अलग कार्यो के लिए किया जाता था। भारत मे अगरबत्ती का चलन वैदिक काल से ही माना जाता है जब देश मे धार्मिक भावनाओं का प्रचार हो रहा था। वर्तमान मे भारत अगरबत्ती बनाने व निर्यात करने वाला पहला देश है और आज के समय काफी ज्यादा मात्रा मे भारत से अगरबत्ती का निर्यात किया जाता है। अगरबत्ती बनाने के कई सारे स्त्रोंत हमे वेदो से भी मिलते है जिसमे विशेष मे अर्थवेद व ऋग्वेद में। प्राचीन काल मे उन अगरबत्तीयों का चलन था जिसमे वे लोग केवल पतली लकडी जो जलाते थ और भगवान की अर्चना करते थे, जैसे जैसे समय बितता गया वैसे वैसे इसमे सुधार आता गया और आज के समय मे आपको बाजार मे कई अलग – अलग प्रकार की अगरबत्ती मिलती है जिसमे अलग – अलग प्रकार की सुगंध वाली। 

अगरबत्ती की धार्मिक मान्यताएँ ( Religious beliefs of incense sticks ) 

अगरबत्ती की कुछ धार्मिक मान्यताएं भी है जिस की वजह से अगरबत्ती की धार्मिक कार्यो मे इतनी मान्यताएं दी जाती है। 

  • सुख समृद्धि की होती है प्राप्ति – अगर धार्मिक मान्यताओं को देखा जाए तो घर मे अगरबत्ती जलाने से घर मे सुख समृद्धि की वृद्धि होती है। अगरबत्ती की धुए से घर मे होने वाली नकारात्मक शक्ति नष्ट हो जाती है। ऐसा भी माना जाता है की घर मे अगरबत्ती के होने वाले धुए से घर का वातावरण स्वच्छ हो जाता है। अगरबत्ती के धुए से घर का वातावरण शुद्ध हो जाता है। घर मे अगरबत्ती जलाने से घर की लक्ष्मी प्रसन्न होती है और कभी भी आपके घर मे धन की कमी नही रहती है। 
  • बनती है सकारात्मक उर्जा – ज्योतिष शास्त्र की माने तो अगर आपके घर मे समस्याओं का समाधान भी हो जाएगा। अगरबत्ती के साथ अगर आप घी, दुध, चंदन को गाय, गोबर से बना कंडा जलाये तो आपको घर मे सुख शांति का वास होगा। ऐसी मान्यता है की इन सब से निकलने वाले धुए से घर मे सुख शांति का फैलाव हो जाता है। गुग्गल और लोबान में वे सब औषधीय गुण होते हैं जिससे आपके घर में फैले सूक्ष्म कीटाणु इस धुएँ के प्रभाव से नष्ट हो जाते है। इससे हमारा स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है।
  • घर मे आर्थिक परेशानी होती है दूर – ऐसी धार्मिक मान्यताएँ भी है की घर मे अगरबत्ती को जलाने से होने वाले धुएँ से घर मे आर्थिक समस्याओं का निपटारा होता है जिससे घर मे सकारात्मक उर्जा का फैलाव होता है। अगर वास्तुशास्त्र की माने तो अगरबत्ती के धुएँ से घर की आर्थिक समस्याओं का निपटारा हो सकता है
  • मन होता है शांत – ऐसी धार्मिक मान्यता है की अगरबत्ती के धुए का घर मे जलाने से घर मे आर्थिक संकट तो दूर होता ही है वही इससे मनुष्य के मन मे शांति का वास होता है। कई बार ऐसा देखा गया है की अस्पताल जैसी जगहों पर भी अगरबत्ती जलाई जाती है भगवान की पूजा की जाती है क्योंकि इससे मन मे शांति का माहौल होता है। 
  • व्यवसाय के लिए है लाभकारी – ऐसी धार्मिक मान्यता है की घर मे अगरबत्ती जलाने से घर मे सुख शांति के साथ – साथ कामकाज मे भी वृद्धि होती है। ऐसा माना जाता है की घरों के साथ दुकानों का व्यवसायीक स्थानों पर भी अगरबत्ती जलानी चाहिए जिससे व्यवसाय मे वृद्धि होती है ऐसा माना जाता है। 
  • बिमारियों से होता है बचाव – ऐसी धार्मिक मान्यता भी है की घर मे अगरबत्ती जलाने से घर मे सुख शांति व व्यवसाय मे वद्वि के साथ यह कई बिमारियों से भी बचाव करता है। अगरबत्ती को जलाने से घर मे फैले किटाणु मरते है जिससे यह आपको कई बिमारियों से बचाता है। 

अगरबत्ती से हानियां ( Losses from incense sticks ) 

जिस प्रकार की धार्मिक मान्यताएं है की अगरबत्ती के फायदे है इसके साथ इसके कुछ हानियां भी है। एक रिसर्च मे ऐेसा पाया गया है की ज्यादातर पूजा – पाठ करते समय अगरबत्ती का उपयोग करते है जिससे जो धुआ होता है उससे मानवीय शरीर पर काफी हद तक बुरा असर पडता है। अगरबत्ती के धुए से मानवीय शरीर के डीएनए पर असर पडता है इससे शरीर मे केंसर जैसी घातक बिमारी होने की संभावना रहती है। इन दावों मे हकीक़त भी कही न कही दिखाई देती है इससे फेफडों पर बूरा असर पडता है। 

इस लेख मे अगरबत्ती के बारे मे जो भी बताया गया है वह केवल सिसर्च के आधार पर बताया गया है। 

निष्कर्ष ( Conclusion ) 

आज के समय मे अगरबत्ती का उपयोग काफी हद तक किया जाता है जो की भगवान की पूजा – पाठ के समय काफी उपयोगी वस्तु होती है। सामान्य अगरबत्ती एक छडी होती है जिस पर कई प्रकार के मिश्रण किये हुए लेप लगे होते है । सामान्यतः अगरबत्ती का उपयोग भगवान की पूजा पाठ करने के लिए उपयोग मे लिया जाता है एवं यह भी हो सकता है इसके अलावा भी इसके और भी कई लाभ होते है।  ऐसा माना जाता है की अगरबत्ती का सर्वप्रथम उपयोग 200 ई.सा पूर्व मे चीन संस्कृति मे भिक्षुओं द्वारा किया गया था क्योंकि उस समय जब भिक्षु भगवान महावीर की पूजा करते थे तो इस अगरबत्ती का उपयोग करते थे। गरबत्ती की कुछ धार्मिक मान्यताएं भी है जिस की वजह से अगरबत्ती की धार्मिक कार्यो मे इतनी मान्यताएं दी जाती है, जैसे – सुख समृद्धि की होती है प्राप्ति, बनती है सकारात्मक उर्जा, घर मे आर्थिक परेशानी होती है दूर, मन होता है शांत, बिमारियों से होता है बचाव इत्यादि। उम्मीद करते है आपको यह जानकारी लाभकारी लगी होगी। 

FAQ 

प्रश्न 1 – अगरबत्ती किससे बनती है। 

उत्तर – अगरबत्ती बनाने के लिए कई प्रकार की वस्तुओं का उपयोग होता है जिसमे सुगंधित लकडी, बेंजिन एसिटेट, चंदन का तेल, बेंजिन अल्कोहल लिनासूस, लिनालिल एसिटेट, अलका एमाइल एल्डिहाइड- 2 ग्राम का अल्कोहल में 10 फीसदी घोल, इंडोल 10 फीसदी घोल इत्यादि शामिल है। 

प्रश्न 2 – अगरबत्ती क्या होती है ?

 उत्तर – सामान्य अगरबत्ती एक छडी होती है जिस पर कई प्रकार के मिश्रण किये हुए लेप लगे होते है । सामान्यतः अगरबत्ती का उपयोग भगवान की पूजा पाठ करने के लिए उपयोग मे लिया जाता है एवं यह भी हो सकता है इसके अलावा भी इसके और भी कई लाभ होते है । 

प्रश्न 3 – अगरबत्ती का पहली बार उपयोग किसने किया था ?

उत्तर – ऐसा माना जाता है की अगरबत्ती का सर्वप्रथम उपयोग 200 ई.सा पूर्व चीन संस्कृति मे भिक्षुओं द्वारा किया गया था क्योंकि उस समय जब भिक्षु भगवान महावीर की पूजा करते थे तो इस अगरबत्ती का उपयोग करते थे। 

प्रश्न 4 – अगरबत्ती के क्या क्या लाभ है ?

उत्तर – अगरबत्ती की कुछ धार्मिक मान्यताएं भी है जिस की वजह से अगरबत्ती की धार्मिक कार्यो मे इतनी मान्यताएं दी जाती है, जैसे – सुख समृद्धि की होती है प्राप्ति, बनती है सकारात्मक उर्जा, घर मे आर्थिक परेशानी होती है दूर, मन होता है शांत, बिमारियों से होता है बचाव

प्रश्न 5 – क्या अगरबत्ती सेहत के लिए हानिकारक है ?

उत्तर – अगर देखा जाये तो अगरबत्ती सेहत के लिए हानिकारक भी साबित हो सकती है क्योंकि इसके धुए से जो की आपके आसपास फैलता है उससे शरीर मे फेफडों मे समस्या होती है वही इससे सास मे भी समस्या हो सकता है, ऐसा दावा किया जाता है। 

HindiHelpAdda.Com के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. यहाँ पर हम हिंदी में पैसे कैसे कमाएँ, ब्लॉगिंग, कैरियर ,टेक्नोलॉजी, इन्टरनेट, सोशल मीडिया, टिप्स ट्रिक, फुल फॉर्म और बहुत कुछ जानकारी हिंदी में साझा करते है। आप सभी का HindiHelpAdda.Com से जुड़ने के लिए दिल से धन्यवाद्।।

a

Leave a Comment